Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 23, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल/गीतिका

जो कुछ चाहिए सब बराबर रखा है
मधुर मंजु चीजें सजाकर रखा है |

तुम्हारी कसम है, हो तुम ही सहारा
विगत पल की यादें, बचाकर रखा है |

न है यह ज़माना हमारा तुम्हारा
न इज्जत मिला, दिल में पत्थर रखा है |

अपाहिज बराबर हुई है रहाई
अनंग की व्यथा को वहन कर रखा है |

पिला साकिया मुझको थोड़ी सी मदिरा
अधर सुखा, दिल में समंदर रखा है |

©कालीपद ‘प्रसाद’

102 Views
You may also like:
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
हंसकर गमों को एक घुट में मैं इस कदर पी...
Krishan Singh
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
""वक्त ""
Ray's Gupta
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
पिता
Mamta Rani
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
आईना और वक्त
बिमल
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
Loading...