Sep 16, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल/गीतिका

मापनी : १२२२ १२२२ १२२२ काफिया : आना , रदीफ़: है

उमंगों की तरंगे यूँ छुपाना है
विरह में गीत यूँ अब गुन गुनाना है |

ये↓ लहरे तो उठेगी फिर मिटेगी यूँ
दिवाकर को तो↓ उग कर अस्त होना है |

मिरे दिल के सभी धड़कन सुनोगी क्या
किया है प्यार तो उसको निभाना है |

लहर को छोड़ कर अब तेरे↓ नयनों के
प्रणय के सिन्धु में अब डूब जाना है |

मैं कब तक राह में यूँ बैठ कर देखूं
लहर आती है↓ पर तुझ को न आना है |

© कालीपद ‘प्रसाद’

87 Views
You may also like:
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
तात्या टोपे बलिदान दिवस १८ अप्रैल १८५९
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
धरती की फरियाद
Anamika Singh
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
इश्क
goutam shaw
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
पिता
Ray's Gupta
धुँध
Rekha Drolia
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
विसाले यार
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H.
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
Loading...