Sep 15, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल/गीतिका

मापनी : १२२२ १२२२ १२२२ रदीफ़ – है , काफिया -आना

उमंगों की तरंगे यूँ छुपाना है
विरह में गीत यूँ अब गुन गुनाना है |

ये↓ लहरे तो उठेगी फिर मिटेगी यूँ
दिवाकर को तो↓ उग कर अस्त होना है |

मिरे दिल के सभी धड़कन सुनोगी क्या
किया है प्यार तो उसको निभाना है |

लहर को छोड़ कर अब तेरे↓ नयनों के
प्रणय के सिन्धु में अब डूब जाना है |

मैं कब तक राह में यूँ बैठ कर देखूं
लहर आती है↓ पर तुझ को न आना है |

© कालीपद ‘प्रसाद’

123 Views
You may also like:
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
🙏महागौरी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
kamal purohit
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
पिता का दर्द
Nitu Sah
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
* उदासी *
Dr. Alpa H.
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
Loading...