Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 19, 2016 · 1 min read

ग़ुनाह

रोज तोबा करके फिर गुनाह करता है
शायद अब गुनाह वो बेपनाह करता है
*****************************
कपिल कुमार
19/08/2016

172 Views
You may also like:
कभी कभी।
Taj Mohammad
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
.✍️कबीर-मुर्शिद मेरा✍️
"अशांत" शेखर
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
कमियाँ
Anamika Singh
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
विसाले यार
Taj Mohammad
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
Loading...