Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ग़ाफ़िल की सुह्बतों का असर भी तो कम नहीं

रुख़ यूँ सँवारने का हुनर भी तो कम नहीं।
आरिज़ पे आँसुओं का गुहर भी तो कम नहीं।।

सैलाब और प्यास नमू एक ही जगह,
ऐसी ख़ुसूसियत-ए-नज़र भी तो कम नहीं।

एक क़त्आ-

रुस्वा न क्यूँ हो इश्क़ ज़माने में तू बता!
उल्फ़त में तेरी, जी का ज़रर भी तो कम नहीं।
मरहूम मेरे इश्क़ की, मानिन्दे रूह यार!
आवारा घूमती सी ख़बर भी तो कम नहीं।।

मक़्ता सहित दो शे’र और-

शीशा-ए-दिल का शग़्ल अगर टूटना है तो
इक संगज़ार से ये शहर भी तो कम नहीं।

नश्तर चला है दिल को मगर क्या हुई ख़बर
ग़ाफ़िल की सुह्बतों का असर भी तो कम नहीं।।

(आरिज़=गाल, गुहर=गौहर यानी मोती का बहुवचन, ख़ुसूसियत-ए-नज़र=नज़र की ख़ासियत, ज़रर=नुक़सान, संगज़ार=पत्थरों का बाग़ अर्थात पत्थरों से अटी जगह)

-‘ग़ाफ़िल’

1 Like · 1 Comment · 157 Views
You may also like:
अधुरा सपना
Anamika Singh
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
सुन्दर घर
Buddha Prakash
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्यार
Anamika Singh
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
देश के नौजवानों
Anamika Singh
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...