Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 7, 2017 · 1 min read

ख़्वाबों को ही अब हम अपना बताते है

ख़्वाबों को ही अब हम अपना बताते है
हकीकत में वो हमसे दूर ही नजर आते है

मोती अब आँखों के खुद ही सूख जाते है
जख्म में अब वो नमक छिड़क जाते है

दर्द में हमकों यूँ ही तन्हा छोड़ जाते है
रात हम अपनी अब यूँ ही बिताते है

खुद तो हँसते है हमारी बेबसी में
और हमे रोता हुआ छोड़ जाते है

जख्म देते है, तडपाते है
मरहम अब हम खुद लगाते है

रूठ कर रूख मोड़ चले जाते है
बात करने के लिए वो तरसाते है

सामने नजर हमे आकर तस्सली दे जाते है
देखकर अब हमको नज़र अंदाज कर जाते है

मिलन की ड़ोर हमेशा काट जाते है
पयाम छोड़ खुदको वयस्त बताते है

हिचकी हमे तो आती नही अब
हमें यादों में अपनी यूँही तड़पाते है

नाम मेरा अब वो भूल जाते है
लब मेरे उनका नाम ही रटते जाते है

कल तक जो हंसाते थी शामो-शहर
वो अब बस शामो-शहर रुलाते है

खुद की तिश्र्गी बुझा कर
भूपेंद्र को प्यासा छोड़ चले जाते है

भूपेंद्र रावत
07/09/2017

1 Like · 207 Views
You may also like:
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
पिता का दर्द
Nitu Sah
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
Loading...