Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

ख़ुदकुशी करने के मैं रोज बहाने ढूँढने लगा हूँ

ख़ुदकुशी करने के मैं रोज बहाने ढूँढने लगा हूँ
जी में रड़क रही है साँसे जैसे मैं मरने लगा हूँ

सीने के जख्मों पे लौट कर कोई बहार आई है
सूना-सूना था भीतर से मैं अब खिलने लगा हूँ

कई बरसों की गर्द जमा थी आज तक चहरे पे
जी भर के जो रो लिया तो साफ़ दिखने लगा हूँ

मुद्दत से लापता है इक शख्स मुझमे ही कहीं
सहरा में दरिया के जैसे खुद को ढूँढने लगा हूँ

आँखों को आखिर कब तक धोखे में रखूँगा मैं
अब जागती हुई आँखो से ख्वाब देखने लगा हूँ

दर्द भरी साँसे भीतर न जाने कौन खिंच रहा है
रूह की तड़प देख के मैं और भी तड़पने लगा हूँ

खो गया न जाने कहाँ खामोशियों के अंदर मैं
चहरे से अब आईने की शनाखत करने लगा हूँ

साँसों का सारा तेल जल चुका पुरव के दिल से
मैं उम्मीदों का इक दिया हूँ जो बुझने लगा हूँ

1 Comment · 201 Views
You may also like:
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार कर्ण
Book of the day: काव्य संग्रह
Sahityapedia
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
संगीत
Surjeet Kumar
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
Ravi Prakash
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
gurudeenverma198
✍️पवित्र गीता✍️
'अशांत' शेखर
इंडिया को इंडिया ही रहने दो
Shekhar Chandra Mitra
बात
Shyam Sundar Subramanian
मां
Dr. Rajeev Jain
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
बाबू जी
Anoop 'Samar'
गांधी : एक सोच
Mahesh Ojha
काश।
Taj Mohammad
भारत की स्वतंत्रता का इतिहास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
'विजय दिवस'
Godambari Negi
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
तूफान हूँ मैं
Aditya Prakash
"সালগিরহ"
DrLakshman Jha Parimal
एक रात का मुसाफ़िर
VINOD KUMAR CHAUHAN
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
मेरे मन के भाव
Ram Krishan Rastogi
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...