Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2022 · 1 min read

ूईश्वर

साप्ताहिक प्रतियोगिता-क्रमांक-3
विषय-ईश्वर
विधा-छंद मुक्त
?मत भूलो तुम प्रभु स्मरण तज दो माया जाल,
सबधरा यहीं रह जाना,करें प्रभु कल्याण।
ईश्वर ही सत्य हे दुनिया का,हे वही पालनहार,धन दौलत का मोह छोड़ दो करेंगे वही उपकार।
मिलती उर को शांति, कर प्रभु का ध्यान, सारे जगत में सब करें, प्रभु का गुणगान।
मानव कष्टों को पीकर,अंतर की प्यास बुझाता है, जब भी मन घबराए,भावों की धार बहाता है।
जब भी कोई विपदा आती, आते ईश्वर याद,भूल जाता हे मानव ईश को,सुख आने के बाद।
हर पल ध्यान करो प्रभु का,होता जिससे उद्धार, वही हे पालनहार जगत का,करें सबका कल्याण।
प्रभु का करके ध्यान, कर्म अपना करते रहो, दीन दुखियों की मदद कर,फर्ज अपना निभाते रहो।
माना कि मुझमें सच का अतुलित बल
पर मेरे दिल का अंतस कोमल,
उद्धार प्रभु का जब हृदय में खिलता है,
जब ईश कर्मो का फल मिलता है,
हर उर में समाहित सकल सृष्टि,
प्रभु ने दी हे सबको दिव्य -दृष्टि।
ईश्वर की अद्भभुत सृष्टि हे मानव
कभी विवेकानंद, आजाद,भगत सिंह, गांधी के रूप में जन्मा मानव।
ईश्वर की उत्कृष्ट कृति हे मानव,
जिसने धरा पर जन्म लिया ,किया धन्य भारत भूमि को,दी एक पहचान धरा को,हम कोटि-कोटि नमन करते हें,
प्रभु चरणों में अपना शीश झुकाते हैं।।

सुषमा सिंह उर्मि

Language: Hindi
Tag: कविता
130 Views

Books from Sushma Singh

You may also like:
"कुछ पन्नों में तुम हो ये सच है फिर भी।
*Author प्रणय प्रभात*
एक चेहरा मन को भाता है
एक चेहरा मन को भाता है
कवि दीपक बवेजा
संगति
संगति
Buddha Prakash
# सुप्रभात .....
# सुप्रभात .....
Chinta netam " मन "
मानवता का गान है हिंदी
मानवता का गान है हिंदी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये...
Manisha Manjari
मुकुट उतरेगा
मुकुट उतरेगा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
नया दौर है सँभल
नया दौर है सँभल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रीति के दोहे, भाग-3
प्रीति के दोहे, भाग-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम तो हो गई मुझसे दूर
तुम तो हो गई मुझसे दूर
Shakil Alam
हक़ीक़त में
हक़ीक़त में
Dr fauzia Naseem shad
आरक्षण का दरिया
आरक्षण का दरिया
मनोज कर्ण
"शायद."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन-गीत
जीवन-गीत
Dr. Kishan tandon kranti
जिसे ये पता ही नहीं क्या मोहब्बत
जिसे ये पता ही नहीं क्या मोहब्बत
Ranjana Verma
तख़्ता डोल रहा
तख़्ता डोल रहा
Dr. Sunita Singh
देखकर सूरत खूबसूरत
देखकर सूरत खूबसूरत
gurudeenverma198
तन्हाई के पर्दे पर
तन्हाई के पर्दे पर
Surinder blackpen
पिता का आशीष
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
हौंसला
हौंसला
Gaurav Sharma
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय द्वारा हमारा अभिनंदन : वर्ष 1996*
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय द्वारा हमारा अभिनंदन : वर्ष 1996*
Ravi Prakash
The right step at right moment is the only right decision at the right occasion
The right step at right moment is the only right...
DR ARUN KUMAR SHASTRI
***
*** " बिंदु और परिधि....!!! " ***
VEDANTA PATEL
प्रेम का दीप जलाया जाए
प्रेम का दीप जलाया जाए
अनूप अम्बर
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
” विषय ..और ..कल्पना “
” विषय ..और ..कल्पना “
DrLakshman Jha Parimal
एक पंछी
एक पंछी
Shiv kumar Barman
गलती का समाधान----
गलती का समाधान----
सुनील कुमार
ख़तरे में दुनिया
ख़तरे में दुनिया
Shekhar Chandra Mitra
💐Prodigy Love-3💐
💐Prodigy Love-3💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...