Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

हो गए बदनाम क्या जमाने में हम

राह पर वो सामने नज़र आने लगे मुझे
मुहब्बत के ही नाम पर बतियाने लगे मुझे

हो गए बदनाम क्या जमाने हम जरा
अंधे भी अब तो आँख दिखाने लगे मुझे

खाई है ठोकर मैने अपनो से ही यारों
देखो कैसे गैर भी अब सतानेे लगे मुझे

हो गई मुहब्बत मुझे जब से तुम से यार
बोल कड़वे भी सभी सुहाने लगे मुझे

कहते थे होती सुबह है मेरे ही दिद से
आज वो ही गैरों के संग चिढ़ाने लगे मुझे

गुलजार कर दी राह मेरी प्यार में सनम
शबनमी फुहारों से भिगाने लगे मुझे

याद दिला न मुझे अपने तराने प्यार के
दास्ताँ बेवफ़ाई की याद आनें लगे मुझे

परवाह नहीं जमाने की कँवल को तो यारों
सारे जहाँ की खुशियाँ वो दिलाने लगे मुझे

241 Views
You may also like:
पिता
Meenakshi Nagar
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Mamta Rani
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
आदर्श पिता
Sahil
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
Loading...