Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

होली के छंद

*होली के छंद*

1

मस्ती का त्यौहार आया, प्रेम की बहार लाया,
देखो दिलवालों की है, गली गली टोली रे।।

हरा पीला लाल लाल, हाथों में ले के गुलाल
दिल में उल्लास लिये, दुनिया ये डोली रे।

झूम झूम गाये रहे, नाचे इटलाय रहे।
मतवाले घूम रहे ,खा के भंग गोली रे।

मस्तानों की टोली ले के, भिन्न भिन्न बोली ले के।
होली आई होली आई, होली आई होली रे।

2

अंग अंग है उमंग, पी के लोग खूब दंग।
भंग का नशा हवा में, होली की बयार है।

रंग और अबीर उड़े, गोरे गोरे गाल पर।
राधा की उम्मीद संग, कान्हा ही का प्यार है।।

पीले फूल सरसों के, टेसू फुले लाल लाल।
आई फिर होली उठे, मन में गुबार है।।

मथुरा की खुशबु का, गोकुल के हार का।
वृन्दाबन सुगंधी बरसाने की फुहार है।।

3
घनाक्षरी (श्रृंगार)

हंसी तेरी हरियाली, रूप है गेहूं की बाली,
आँखे तेरी किसलय है, चाल मतवाली है।।

नजरें उठा के देखे, बिजली गिरेगी वहीँ,
चले इटला के तू तो, मानलो भूचाली है।।

प्रकृति ने कुछ तुझे, ज्यादा ही दिया है मानों,
जुल्फें तेरी सावन की, घटा से भी काली है।।

संजीदा अदा भी तेरी गीतिका की बानगी है,
लब गजलें हैं तेरी, बोली मद प्याली है।।

4
मनहरण घनाक्षरी-

“काजल” लगाके चली,
नैना कजरारे करी,
चैन को चुरा ले गई,
अखियाँ कटार है।।

बिंदिया कपाल पर,
गोरे गोरे गाल पर,
काला वाला तिल करे
हिय पे प्रहार है।।

देखा रंग रूप तेरा,
घायल ये मन मेरा,
लग रहा मुझे मिली,
खुशियाँ अपार है।

जिया डोले हौले हौले,
मन मन में ही बोले,
होने वाली यही मेरी,
बागों की बहार है।।

-साहेबलाल ‘सरल’

मुक्तक

नहीं खेलो नहीं खेलो, यहाँ होली खिलाफत की।
नहीं अच्छी नहीं अच्छी, जो फितरत है हिकारत की।।
ये होली तो सिखाती है, सदा ही प्यार से हो लो।
सुनो मानों मेरा कहना, बुरी आदत बगावत की।।

3 Likes · 2 Comments · 2569 Views
You may also like:
पिता का दर्द
Nitu Sah
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधुरा सपना
Anamika Singh
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Shailendra Aseem
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुआ आई
राजेश 'ललित'
तीन किताबें
Buddha Prakash
Loading...