Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 16, 2019 · 1 min read

होलियाँ

धरती पहने सतरंगी खेल रही है होलियां
भिन्न भिन्न हैँ रूप यहां पर भिन्न भिन्न हैँ बोलियां

कोई मुख पर रंग लपेटे बन्दर बना हुआ है
कोई गोबर माटी में ऊपर से सना हुआ है

कोई बेघर लाचारों की जला रहा है खोलियाँ
धरती पहने………………………………………

लगता है सब मिल करके ऊँच नींच तज डालेंगे
अपने अपने हृदयों में सद्भाव भाव फिर पालेंगे

कुछ लेकर के आड़ किसी की चला रहे हैँ गोलियां
धरती पहने…………………………………………

भीगा भीगा तन सारा है मन भी रंगा रंगा सा
कोई शान्त नज़र आता है कोई ठगा ठगा सा

दामन रंग बिरंगे हैँ सब रंगीं रंगीं हैँ चोलियां
धरती पहने………………………………………..

मीठे मीठे पकवानों से क्या मन मीठा हो सकता है
मन में समरसता के बिन तो जग रीता हो सकता है

नहीं चलेगा काम दोस्तों बना बना कर टोलियां
धरती पहने…………………………………………

नरेन्द्र मगन, कासगंज
9411999468

159 Views
You may also like:
✍️लौटा हि दूँगा...✍️
'अशांत' शेखर
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
नवगीत
Sushila Joshi
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
खेत
Buddha Prakash
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
अभिव्यक्ति की आजादी पर अंकुश
ओनिका सेतिया 'अनु '
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
खेलता ख़ुद आग से है
Shivkumar Bilagrami
माटी
Utsav Kumar Aarya
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल से जियो।
Taj Mohammad
हम भारतीय हैं..।
Buddha Prakash
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
✍️कोई मसिहाँ चाहिए..✍️
'अशांत' शेखर
✍️तन्हा खामोश हूँ✍️
'अशांत' शेखर
- मेरा ख्वाब मेरी हकीकत
bharat gehlot
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
देश की पहचान हमसे
Dr fauzia Naseem shad
✍️आत्मपरीक्षण✍️
'अशांत' शेखर
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
Loading...