Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

होना, न होना, एक है l

होना, न होना, एक है l
अब इरादे, ना नेक है ll
गम की गजब गर्मी है l
गम जीवन, रहा सेक है ll

दिशा ओ दशा अलग अलग l
वो कैसे एकमेक है ll
सोच समझ ओ महनत है l
होते रस्ते अनेक है ll

लालच लोभी लाय पाय l
कहाँ कह सके सम्यक है ll
भीख ले, कैसा भिखारी l
बस कहे कहे कितेक है ll

बस द्वेषों भरी प्यास है l
समझ खत्म अब विवेक है ll
होना, न होना, एक है l
अब इरादे, ना नेक है ll

अरविन्द व्यास “प्यास”
व्योमत्न

18 Views
You may also like:
बारिश हमसे रूढ़ गई
Dr.Alpa Amin
★प्रकृति: तथा तत्वबोधः★
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
तू है तेरे अन्दर।
Taj Mohammad
इनक मोतियो का
shabina. Naaz
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
प्रतियोगिता
krishan saini
बहार के दिन
shabina. Naaz
✍️बोन्साई✍️
'अशांत' शेखर
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फौजी
Seema Tuhaina
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
राब्ते सबसे अपने
Dr fauzia Naseem shad
ख़ामोश मुझे मेरा
Dr fauzia Naseem shad
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
आदमी की आवाज हैं नागार्जुन
Ravi Prakash
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ द्वारा ध्यान का आयोजन*
Ravi Prakash
✍️मैं परिंदा...!✍️
'अशांत' शेखर
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता
Dr.Priya Soni Khare
पुस्तक समीक्षा : सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
खैरियत का जवाब आया
Seema Tuhaina
मेरे अल्फाज़...
"धानी" श्रद्धा
त'अल्लुक खुद से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...