Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 28, 2021 · 1 min read

होती जब घमासान वर्षा की कहर

दुबक दुबक कर बैठे सब अपने घर,
होती जब घमासान वर्षा की कहर ।
समय समय पर बिजली कड़की,
शांत चित वाली धरती भी धड़की,
बादल गर्जना कर देता झिड़की,
बंद करो सब बच्चे खिड़की,
देखो बूंद गिरा फिर इधर-उधर
होती जब घमासान वर्षा की कहर ।

तृप्त हो रहा पत्ता पत्ता,
लोग निकलते ले कर छत्ता,
पानी भरती चली नदी, नाले, पोखर, खत्ता,
टर्र -टर्र मेंढक पाता अपनी सत्ता,
सूखा मैदान भी बना नहर,
होती जब घमासान वर्षा की कहर।

भींग गए सरसों, गेहूँ के बोरे जो थे मूंदे,
कृषक क्षण -क्षण अपने सिर को धूने,
क्या क्या थे निज घर आयोजन बूने ,
एक एक स्वप्न टूट रहा जो थे गूने,
हो गया आज पानी भी जहर,
होती जब घमासान वर्षा की कहर ।

खुश होते हैं महलों वाले,
गर्जन करता जब बादल काले- काले,
वर्षा के बूंद -बूंद देखते मन मतवाले,
खाते वर्षा में चाट-पकौड़े अधिक मसाले,
जाने कैसे इनकी बीते पहर दो पहर,
होती जब घमासान वर्षा की कहर ।

क्या होगी झुग्गी, झोपड़ी की मस्ती,
जलप्लावन में डुब रही है उनकी हस्ती,
इनके जीवन का क्या मोल जब है इतनी सस्ती,
टूटे-फूटे छप्पर भी बनाया टूटे खाट को कस्ती,
जीवन पर ही टूटा पाषाण शिखर,
होती जब घमासान वर्षा की कहर ।
-उमा झा

9 Likes · 16 Comments · 337 Views
You may also like:
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
बाजारों में ना बिकती है।
Taj Mohammad
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
माटी
Utsav Kumar Aarya
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
दहेज़
आकाश महेशपुरी
✍️पिता:एक किरण✍️
'अशांत' शेखर
इश्क के आलावा भी।
Taj Mohammad
कभी अलविदा न कहेना....
Dr.Alpa Amin
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
खुश रहना
dks.lhp
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
सवालों के घेरे में देश का भविष्य
Dr fauzia Naseem shad
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
नारा ए आज़ादी से गूंजा सारा हिंदुस्तां है।
Taj Mohammad
दौर।
Taj Mohammad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
✍️सियासत✍️
'अशांत' शेखर
Loading...