Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 31, 2016 · 1 min read

होता न गऱ इश्क़

होता न गऱ ये जिस्म तो अहसास भी न होता
होता न गऱ ये इश्क़ तो कोई खास भी न होता
***********************************
मिला देता है इश्क़ ही हर इक खासो आम को
होता न गऱ ये खास तो कोई पास भी न होता
***********************************
कपिल कुमार
31/10/2016

104 Views
You may also like:
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
छोटा-सा परिवार
श्री रमण
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
पिता
Anis Shah
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
✍️जिद्द..!✍️
"अशांत" शेखर
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
तेरी हर बात सनद है, हद है
Anis Shah
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
मां की पुण्यतिथि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लांगुरिया
Subhash Singhai
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr. Alpa H. Amin
पिता
dks.lhp
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
Loading...