Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

है याद मुझे कोयल की कूक व अमराई

ग़ज़ल
******
221 1222 221. 1222

तकिये को भिगो देती जब याद मेरी आई
वो मेरी मुहब्बत को अब तक न भुला पाई

हम करते रहे उससे दिन रात वफा लेकिन
पर हमको सितमग़र से मिलती रही रुसवाई

दे दे के सदा उसको हमने तो बुलाया पर
मिलने को कभी हमसे मगरूर नहीं आई

तारीफ़ करे कोई क्या तेरे शबाहत की
जैसे कि किरन कोई पूरब से निकल आई

पहले ही तड़पता है ये दर्द से दिल मेरा
इक टीस जगाती है जब चलती ये पुरवाई

बरबाद किया मुझको अपनों ने मुहब्बत में
मैं आज तमाशा हूँ वो लोग तमाशाई

वो चाँद भी शरमाए जब देखे तेरा चहरा
जो सादग़ी है तुझमें फूलों में नहीं पाई

वहशत में हैं अब जीते अपने ये वतन वाले
ये कैसी तनफ़्फुर की हर सिम्त घटा छाई

दिल मेरा मचलता है अब बाँध लूँ मैं सेहरा
जब घर में पड़ोसी के बजती है ये शहनाई

है चीज यहाँ दौलत जो खून करा देती
फिर भूल मरासिम को लड़ते हैं सगे भाई

जब वक्त हो गर्दिश का कोई साथ नहीं देता
है बात न गैरों की दे साथ न परछाई

परदेश में आकर के भूले न वतन अपना
है याद मुझे कोयल की कूक व अमराई

दुशमन भी दगा ऐसे देगा न किसी को भीे
जो आज दगा हमनें तुमसे है सनम खाई

ये नाज़ो अदा “प्रीतम” उसकी है निराली ही
लगता है सदाक़त वो कलियों से चुरा लाई

प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
???????????

166 Views
You may also like:
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
बुआ आई
राजेश 'ललित'
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
Loading...