Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,

है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
खुदा का नूर पाने की।
किसी कामिल ए मुरशिद की,
तहे दिल से गुलामी कर।

-सतीश सृजन

1 Like · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
बाट जोहती इक दासी
बाट जोहती इक दासी
Rashmi Sanjay
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
कभी किसी की मदद कर के देखना
कभी किसी की मदद कर के देखना
shabina. Naaz
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा
Dr fauzia Naseem shad
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
चुनावी रिश्ता
चुनावी रिश्ता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब उम्मीदों की स्याही कलम के साथ चलती है।
जब उम्मीदों की स्याही कलम के साथ चलती है।
Manisha Manjari
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
Shankar S aanjna
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
किसी और के खुदा बन गए है।
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
क्या ग़लत मैंने किया
क्या ग़लत मैंने किया
Surinder blackpen
जिधर भी देखिए उधर ही सूल सूल हो गये
जिधर भी देखिए उधर ही सूल सूल हो गये
Anis Shah
THANKS
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
gurudeenverma198
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Writing Challenge- सपना (Dream)
Writing Challenge- सपना (Dream)
Sahityapedia
कलयुग की माया
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
*नत ( कुंडलिया )*
*नत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुबह की चाय है इश्क,
सुबह की चाय है इश्क,
Aniruddh Pandey
व्यास पूर्णिमा
व्यास पूर्णिमा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
फांसी के तख्ते से
फांसी के तख्ते से
Shekhar Chandra Mitra
पावस की ऐसी रैन सखी
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
मेरी कविताएं
मेरी कविताएं
Satish Srijan
Loading...