Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2022 · 1 min read

हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

विधा-आदित्य छन्द आधारित गीत
विधान-मापनीयुक्त मात्रिक छन्द, क्रमागत दो चरण समतुकांत होना अनिवार्य,
5,14,19 वीं मात्रा पर यति एवं 28 वीं पर विराम।
_________________________________
स्वर्ग या, जन्नत सभी कुछ, मान लो, उनके हीं पग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

शिष्टता, का बीज उर मे, वे सदा, ही रोपते हैं।
हो अहित, संतान के जो, शीश उस, का छोपते हैं।
तात से, हीं है मिला, हर पुत्र, को सम्मान जग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

त्याग कर, हर इक विलासी, भावना, जीते रहे हैं।
हो सफल, संतान उनकी, विष सदा, पीते रहे हैं।
त्याग की, प्रतिमूर्ति का जो, स्पष्ट सा, प्रतिमान जग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

घर अगर, माता हमारी, छत पिता, सब जानते हैं।
वेद या, ब्रह्मांड कहलें, सत्य है, सब मानते हैं।
हैं प्रथम, शिक्षक पिता अरु, पुत्र का अभिमान जग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

त्याग की, हर इक कहानी, का वहीं, किरदार जग में।
पुत्र के, पथ का प्रदर्शक, इक वहीं, आधार जग में।
आश है, विश्वास भी उम्मीद का उन्वान जग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

✍️ पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण, बिहार
स्वरचित, स्वप्रमाणित

Language: Hindi
Tag: गीत
27 Likes · 34 Comments · 1181 Views
You may also like:
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
श्री गणेशाय नमः
जगदीश लववंशी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
✍️आज जमी तो कल आसमाँ हूँ
'अशांत' शेखर
✍️आईने ने कहा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम फ़रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
246. "हमराही मेरे"
MSW Sunil SainiCENA
*"परिवर्तन नए पड़ाव की ओर"*
Shashi kala vyas
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam " मन "
*आत्मा का स्वभाव भक्ति है : कुरुक्षेत्र इस्कॉन के अध्यक्ष...
Ravi Prakash
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
दुर्गा पूजा विषर्जन
Rupesh Thakur
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'कभी तो'
Godambari Negi
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एक पत्र पुराने मित्रों के नाम
Ram Krishan Rastogi
आया है प्यारा सावन
Dr Archana Gupta
तेरे ख्वाब सदा ही सजाते थे
अनूप अंबर
सास-बहू
Rashmi Sanjay
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मनुष्यस्य शरीर: तथा परमात्माप्राप्ति:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
करवा चौथ
Manoj Tanan
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
😊तेरी मिरी चिड़ी पीड़ि😊
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज नहीं तो कल होगा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...