#12 Trending Author

हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

विधा-आदित्य छन्द आधारित गीत
विधान-मापनीयुक्त मात्रिक छन्द, क्रमागत दो चरण समतुकांत होना अनिवार्य,
5,14,19 वीं मात्रा पर यति एवं 28 वीं पर विराम।
_________________________________
स्वर्ग या, जन्नत सभी कुछ, मान लो, उनके हीं पग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

शिष्टता, का बीज उर मे, वे सदा, ही रोपते हैं।
हो अहित, संतान के जो, शीश उस, का छोपते हैं।
तात से, हीं है मिला, हर पुत्र, को सम्मान जग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

त्याग कर, हर इक विलासी, भावना, जीते रहे हैं।
हो सफल, संतान उनकी, विष सदा, पीते रहे हैं।
त्याग की, प्रतिमूर्ति का जो, स्पष्ट सा, प्रतिमान जग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

घर अगर, माता हमारी, छत पिता, सब जानते हैं।
वेद या, ब्रह्मांड कहलें, सत्य है, सब मानते हैं।
हैं प्रथम, शिक्षक पिता अरु, पुत्र का अभिमान जग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

त्याग की, हर इक कहानी, का वहीं, किरदार जग में।
पुत्र के, पथ का प्रदर्शक, इक वहीं, आधार जग में।
आश है, विश्वास भी उम्मीद का उन्वान जग में।
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।

✍️ पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण, बिहार
स्वरचित, स्वप्रमाणित

22 Likes · 29 Comments · 610 Views
You may also like:
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
पिता
Vandana Namdev
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H.
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H.
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
वार्तालाप….
Piyush Goel
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
अब तो दर्शन दे दो गिरधर...
Dr. Alpa H.
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...