Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 25, 2022 · 1 min read

हे विधाता शरण तेरी

लो विधाता खोल दी
मुट्ठी अब तेरे सामने ।
आ गए हैं पांव थककर
शरण तेरी थामने ।
हाथ में अब कुछ न मेरे
और शायद भाग्य में भी ।
इसलिए मुक्तक हैं फिसले
आये थे जो हाथ भी ।
मन बहुत विचलित प्रभु
वेदना ये अति घनी है ।
किससे बांटे पीर मन की
कोई भी संगी नहीं है ।
प्रभु करो पाषाण ये उर
सह सके आघात जो ।
शान्ति दो इतनी हृदय में
कोई न प्रतिकार हो ।
नयन से सब रंग लेकर
शुष्कता इनमें भरो ।
मन के सारे मोह छीनों
पुलक भी तन से हरो ।
समाधि का आलम्ब दो
जो आधि व्याधि मुक्त हो ।
अब रहूं निर्लिप्त जग से
मन ये शिव संयुक्त हो ।

95 Views
You may also like:
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H. Amin
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
Vijaykumar Gundal
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
वो
Shyam Sundar Subramanian
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
मै वह हूँ।
Anamika Singh
एकाकीपन
Rekha Drolia
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
भारत की जमीं
DESH RAJ
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ये सियासत है।
Taj Mohammad
✍️✍️हौंसला✍️✍️
"अशांत" शेखर
खुदा बना दे।
Taj Mohammad
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
Loading...