Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#11 Trending Author

हे राम! तुम लौट आओ ना,,!

हे राम !!
तुम कहां हो ?
धरती या आकाश में ,
या पाताल में ?
धरती पर यदि हो तो कहां ?
पेड़ पौधों ,फूलों ,कलियों में,
बागों में ,खेतों या खलिहानों में ?
मंदिर में !
मंदिर में तो तुम्हारी मूरत मिलती है ,
परंतु मौन रूप में।
आकाश में यदि हो तो ,
होंगे चांद सितारों में ,
सूरज में ,नवग्रहों में,
आकाश गंगाओं में?
वैसे तो तुम इस सृष्टि के,
इस प्रकृति के कण कण में हो ।
परंतु दिखते क्यों नहीं !
हम पुकारते हैं तुमको ,
तुम आकर मिलते क्यों नही ?
तुम आकर देखो तो सही ,
तुम्हारा देश भारत (आर्यव्रत )
कितना बदल गया है !
तुम्हारा मनुष्य भी बहुत बदल गया है ।
तुम्हारे द्वारा प्रदान की गई ,
नीतियां , संस्कार ,शिक्षाएं , प्रेरणाएं ,
संस्कृति ,सभ्यता , और ,
उसमें निहित आदर्श परिवार की
परिकल्पनाएं ,
संबंधों की मर्यादाएं सब भुला दी गई हैं।
अब इस देश में राम राज्य का,
तनिक भी चिन्ह नहीं दिखता।
हे राम !
बड़ा व्याकुल है यह मन !
बड़ा संतप्त है ।
तुम वापिस लौट के क्यों नही आते ?
मानव धर्म की स्थापना करने हेतु ,
प्रदूषण से त्रस्त इस पृथ्वी और प्रकृति ,
की रक्षा हेतु ,
सरल , सज्जन परंतु कमजोर व्यक्तियों हेतु ,
तुम लौट आओ ना !
हे राम ! तुम लौट आओ ना !

3 Likes · 6 Comments · 143 Views
You may also like:
तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
परदेश
DESH RAJ
हे गुरू।
Anamika Singh
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
.✍️साथीला तूच हवे✍️
"अशांत" शेखर
प्रकृति का क्रोध
Anamika Singh
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
कर्म करो
Anamika Singh
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H. Amin
सच्चाई का मार्ग
AMRESH KUMAR VERMA
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
झूला सजा दो
Buddha Prakash
Loading...