Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#15 Trending Author

हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर

हे मात जीवनदायिनी, तेरी करूं मैं बंदगी
तेरे तटों पर ना हो मुझसे, भूलकर भी गंदगी
नित्य सेवन दर्शन तुम्हारे, मैं सदा करता रहूं
मैं सदा घाटों को तेरे, साफ भी रखता रहूं
वनों से शोभित किनारे, रक्षा मैं हरदम करूं
रोप कर फलदार बगिया, मैं सदा सेवा करूं
अब ना लाशें अधजली, मैं तुम्हें अर्पण करूं
पूजा के निर्माल्य का भी, उचित निष्पादन करूं
न फटे कपड़े पुराने न केमिकल और मूर्तियां
नाही पन्नी और प्लास्टिक की वनी सामग्रियां
ना तेरे जल में साबुन, न ही फिकें अब पनियां
ना मिलें नाले प्रदूषित, कितनी भी हों मजबूरियां
न मरें जलचर कभी, ध्यान मैं हरदम धरूं
निर्बाध निर्मल मां सदा, धरा पर बहतीं रहें
वरदान जीवन की अमरता, नर्मदे देती रहें

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 77 Views
You may also like:
मुक्तक
AJAY PRASAD
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
आमाल।
Taj Mohammad
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
सच तो यह है
gurudeenverma198
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
माटी
Utsav Kumar Aarya
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...