Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

**हे प्रभु!यह कैसा मृत्योत्सव है**

टूट चुके हैं स्वप्न जगत के,
जीवन का परिमल सब छूटा,
आशाएँ हैं भय से आकुल,
बचे प्रेम का पुल जब टूटा,
थोड़ी जो कुछ सहानुभूति थी,
घर का रोशनदान पकड़ती,
न रंग है न दीपक जलता,
फिर यह कैसा उद्यम उत्सव है,
कर्तव्य सिमटता बस पुस्तक तक,
शिक्षा लेती धन की अंगड़ाई,
आदर्शों की बात करें जब,
कह देता मत छू परछाईं,
हर घर में यह प्रकट हुआ है,
दुःख और सन्देह का दानव,
घर वाले ही दूर हट गए,
झट पट वह दे देते साँकल,
काल हुआ है परम वीर अब,
भूल गया वह मृत्यु का अन्तर,
युवक बुढ़ापा भूल गया वह,
चुन चुन कर वह मृत्यु बाँटता,
देख देख कर विकल धरा को,
विकृत रूप हुई है मनीषा,
चिंतन की परिभाषा है बदली,
स्नेह रिक्त और ठगा सा,
कोना कोना हुआ मणिकर्णिका,
अब तो सुधरो, जिओ जीवन के,
अन्तिम क्षण को प्रेम संग में,
करो प्रार्थना जोर लगाकर,
हे प्रभु!तुम तो दीन बन्धु हो,
जगत आधार जगन्नाथ हो,
त्राहि त्राहि करता जग सारा,
अन्त करो अब इस प्रयाण का,
कैसा यह अमंगल उत्सव है,
हे प्रभु!यह कैसा मृत्योत्सव है।

©अभिषेक पाराशर????

1 Like · 165 Views
You may also like:
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
✍️कधी कधी✍️
'अशांत' शेखर
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
“ मिलि -जुलि केँ दूनू काज करू ”
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी से बड़ा कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
इक ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
ये वतन हमारा है
Dr fauzia Naseem shad
✍️एक नन्हे बच्चे इंदर मेघवाल की मौत पर...!
'अशांत' शेखर
निशां बाकी हैं।
Taj Mohammad
✍️दिल शायर होता है...✍️
'अशांत' शेखर
बग़ावत
Shyam Sundar Subramanian
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तड़फ
Harshvardhan "आवारा"
रूबरू होकर जमाने से .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दर्द
Anamika Singh
आईना हम कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
"मौन "
DrLakshman Jha Parimal
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
Loading...