Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2022 · 1 min read

हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन

हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन

तुमसे रोशन दुनिया मेरी
तुमसे रोशन जीवन मेरा

पथ प्रदर्शक थे तुम मेरे
तुमसे रोशन आशियाँ मेरा

हे पिता अभिनन्दन तुम्हारा
तुमसे ही था घर उजियारा

शिक्षा का आधार तुम्हीं थे
संस्कारों का विस्तार तुम्हीं थे

पल्लवित हुई संस्कृति तुम्हीं से
घर आँगन गुलज़ार तुम्हीं से

जीवन का आकार तुम्हीं से
जीवन का विस्तार तुम्हीं से

हो रहा आज मेरा अभिनन्दन
ये सब है एकमात्र तुम्हीं से

तुमसे ही पावन कर्म हमारे
तुमसे रोशन सत्कर्म हमारे

धर्म का विस्तार थे तुम
एक सद्चरित्र आधार थे तुम

तेरे आशीर्वाद की धरोहर
हर एक कर्म हो गया मनोहर

सबके दुःख का भान तुम्हें था
क्रोध का नामो – निशान नहीं था

पीर हमारी हर लेते थे
घर खुशियों से भर देते थे

हे पिता मैं करूँ तेरा वंदन
सिर माथे का हो जाए चन्दन

यादों में अब भी बसते हो
अब भी मुझको प्रेरित करते हो

आपका आशीर्वाद बनाए रखना
जीवन को दिशा दिखाए रखना

हे पिता मैं बालक तेरा
अवगुण मेरे क्षमा करना

रखना मुझको अपने चरणों में
पावन मेरा जीवन करना

तुझको मैं भगवान् है जानूं
अपनी कृपा से पोषित करना

तुमसे रोशन दुनिया मेरी
तुमसे रोशन जीवन मेरा

पथ प्रदर्शक थे तुम मेरे
तुमसे रोशन आशियाँ मेरा

Language: Hindi
Tag: कविता
17 Likes · 34 Comments · 527 Views
You may also like:
दीप जले है दीप जले
Buddha Prakash
काँच के टुकड़े तख़्त-ओ-ताज में जड़े हुए हैं
Anis Shah
इश्क रोग
Dushyant Kumar
स्वास्थ्य
Saraswati Bajpai
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
ज़िंदगी मौत को तरसती है
Dr fauzia Naseem shad
✍️दिल चाहता...
'अशांत' शेखर
शुरू खत्म
Pradyumna
ख्वाहिश है बस इतना
Anamika Singh
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो।
लक्ष्मी सिंह
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
पितृ देव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*देश-भक्ति के भावों का पर्याय बन गईं श्री रामावतार त्यागी...
Ravi Prakash
औरत
shabina. Naaz
" सहज कविता "
DrLakshman Jha Parimal
कर कर के प्रयास अथक
कवि दीपक बवेजा
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Revenge shayari
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बादल जब गरजे,साजन की याद आई होगी
Ram Krishan Rastogi
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
Rain (wo baarish ki yaadein)
Nupur Pathak
कविता
Mahendra Narayan
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
शुभ धनतेरस
Dr Archana Gupta
छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने...
Pravesh Shinde
साँझ
Alok Saxena
Loading...