Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#23 Trending Author

हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन

हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन

तुमसे रोशन दुनिया मेरी
तुमसे रोशन जीवन मेरा

पथ प्रदर्शक थे तुम मेरे
तुमसे रोशन आशियाँ मेरा

हे पिता अभिनन्दन तुम्हारा
तुमसे ही था घर उजियारा

शिक्षा का आधार तुम्हीं थे
संस्कारों का विस्तार तुम्हीं थे

पल्लवित हुई संस्कृति तुम्हीं से
घर आँगन गुलज़ार तुम्हीं से

जीवन का आकार तुम्हीं से
जीवन का विस्तार तुम्हीं से

हो रहा आज मेरा अभिनन्दन
ये सब है एकमात्र तुम्हीं से

तुमसे ही पावन कर्म हमारे
तुमसे रोशन सत्कर्म हमारे

धर्म का विस्तार थे तुम
एक सद्चरित्र आधार थे तुम

तेरे आशीर्वाद की धरोहर
हर एक कर्म हो गया मनोहर

सबके दुःख का भान तुम्हें था
क्रोध का नामो – निशान नहीं था

पीर हमारी हर लेते थे
घर खुशियों से भर देते थे

हे पिता मैं करूँ तेरा वंदन
सिर माथे का हो जाए चन्दन

यादों में अब भी बसते हो
अब भी मुझको प्रेरित करते हो

आपका आशीर्वाद बनाए रखना
जीवन को दिशा दिखाए रखना

हे पिता मैं बालक तेरा
अवगुण मेरे क्षमा करना

रखना मुझको अपने चरणों में
पावन मेरा जीवन करना

तुझको मैं भगवान् है जानूं
अपनी कृपा से पोषित करना

2 Likes · 2 Comments · 140 Views
You may also like:
ईद हो जायेगी।
Taj Mohammad
Gazal sagheer
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आब अमेरिकामे पढ़ता दिहाड़ी मजदूरक दुलरा, 2.5 करोड़ के भेटल...
श्रीहर्ष आचार्य
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr.Alpa Amin
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
सर्वश्रेष्ठ
Seema Tuhaina
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
"अशांत" शेखर
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
महसूस करो
Dr fauzia Naseem shad
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
कहाँ तुम पौन हो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"रिश्ते"
Ajit Kumar "Karn"
अदीब लगता नही है कोई।
Taj Mohammad
दोस्त
लक्ष्मी सिंह
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
दुश्मनी ही तो तुमसे मैं
gurudeenverma198
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
*पंडित ज्वाला प्रसाद मिश्र और आर्य समाज-सनातन धर्म का विवाद*
Ravi Prakash
Loading...