Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Apr 2022 · 2 min read

हे तात ! कहा तुम चले गए…

हे तात ! कहा तुम चले गए…
~~°~~°~~°
हे तात ! कहा तुम चले गए…
दर्शन न कोई मुलाकात, जहांँ तुम चले गए..।
संग तेरे जो बीता था बचपन ,
अब भी कुछ-कुछ याद हैं मुझको,
कंधे पर जो बैठ झूमता,
सुनाता मन की फरियाद था तुझको।
हाथ पकड़ कर जब सुबह टहलता,
करता जिद फिर अपने मन को ।
झूठ मूठ के आँसू लाकर ,
यूँ ही घबराता तेरे दिल को।
अब कर के क्या पश्चात्ताप, जहांँ तुम चले गए..।
हे तात ! कहा तुम चले गए…

आपस में हम सब जो झगड़ते ,
बिना मतलब ही रगड़ा करते ।
आते तुम फिर हमें समझाते ,
गिले शिकवे सब दूर कराते।
कभी-कभी जो गुस्सा करते,
खामोश निगाहों से हम डरते।
अन्तर्मन से भले ही रो लेते ,
होठों पर सदा मुस्कान ही रखते।
देकर सबल संताप, कहा तुम चले गए…!
हे तात ! कहा तुम चले गए…

अपरिमित व्योम सा प्यार था तेरा ,
कर्मपथ भी विचलित न हुआ था।
मुश्किलें जो आती आँधी जैसी ,
उसमें भी हरगिज न डिगा था।
पूरे हो हर ख्वाब,एक दिन तो ,
इसी उम्मीद में दिवस गुजरता।
जेब कभी खाली पड़ जाए ,
हौसला फिर भी कम न होता।
देकर खुशियों भरी सौगात,कहा तुम चले गए…।
हे तात ! कहा तुम चले गए…

मुझे याद है अब भी वो रात ,
साँसें अटकी थी उस रात ,
देखा था आँसू पहली बार ,
जब बेचैन हुए जज्बात .
वो पल था कैसा घात ,
करके इशारों में आखिरी बात।
कहा तुम चले गए…
करके अश्कों की बरसात,कहा तुम चले गए।
हे तात ! कहा तुम चले गए…

मौलिक एवं स्वरचित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २१ /०४ /२०२२

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 10 Comments · 645 Views
You may also like:
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आया आषाढ़
श्री रमण 'श्रीपद्'
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो इश्क मुकम्मल करते हैं
कवि दीपक बवेजा
नित यौवन
Dr. Sunita Singh
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
Shivraj Anand
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
कवित्त
Varun Singh Gautam
Writing Challenge- नृत्य (Dance)
Sahityapedia
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
वो चुप सी दीवारें
Kavita Chouhan
पिता
Shankar J aanjna
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
छलिया जैसा मेघों का व्यवहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
इन्तिजार तुम करना।
Taj Mohammad
*धन्य वीरेंद्र मिश्र जी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️नियत में जा’ल रहा✍️
'अशांत' शेखर
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
भगतसिंह की देन
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
असत्य पर सत्य की जीत
VINOD KUMAR CHAUHAN
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...