Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 20, 2022 · 2 min read

हे तात ! कहा तुम चले गए…

हे तात ! कहा तुम चले गए…
~~°~~°~~°
हे तात ! कहा तुम चले गए…
दर्शन न कोई मुलाकात, जहांँ तुम चले गए..।
संग तेरे जो बीता था बचपन ,
अब भी कुछ-कुछ याद हैं मुझको,
कंधे पर जो बैठ झूमता,
सुनाता मन की फरियाद था तुझको।
हाथ पकड़ कर जब सुबह टहलता,
करता जिद फिर अपने मन को ।
झूठ मूठ के आँसू लाकर ,
यूँ ही घबराता तेरे दिल को।
अब कर के क्या पश्चात्ताप, जहांँ तुम चले गए..।
हे तात ! कहा तुम चले गए…

आपस में हम सब जो झगड़ते ,
बिना मतलब ही रगड़ा करते ।
आते तुम फिर हमें समझाते ,
गिले शिकवे सब दूर कराते।
कभी-कभी जो गुस्सा करते,
खामोश निगाहों से हम डरते।
अन्तर्मन से भले ही रो लेते ,
होठों पर सदा मुस्कान ही रखते।
देकर सबल संताप, कहा तुम चले गए…!
हे तात ! कहा तुम चले गए…

अपरिमित व्योम सा प्यार था तेरा ,
कर्मपथ भी विचलित न हुआ था।
मुश्किलें जो आती आँधी जैसी ,
उसमें भी हरगिज न डिगा था।
पूरे हो हर ख्वाब,एक दिन तो ,
इसी उम्मीद में दिवस गुजरता।
जेब कभी खाली पड़ जाए ,
हौसला फिर भी कम न होता।
देकर खुशियों भरी सौगात,कहा तुम चले गए…।
हे तात ! कहा तुम चले गए…

मुझे याद है अब भी वो रात ,
साँसें अटकी थी उस रात ,
देखा था आँसू पहली बार ,
जब बेचैन हुए जज्बात .
वो पल था कैसा घात ,
करके इशारों में आखिरी बात।
कहा तुम चले गए…
करके अश्कों की बरसात,कहा तुम चले गए।
हे तात ! कहा तुम चले गए…

मौलिक एवं स्वरचित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २१ /०४ /२०२२

7 Likes · 10 Comments · 333 Views
You may also like:
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
पंचशील गीत
Buddha Prakash
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
खुदा मुझको मिलेगा न तो (जानदार ग़ज़ल)
रकमिश सुल्तानपुरी
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
✍️पत्थर✍️
"अशांत" शेखर
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
*"पिता"*
Shashi kala vyas
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
बंदर भैया
Buddha Prakash
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
"सुकून की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...