Jun 25, 2021 · 2 min read

हे,भारत की नारी कृपानिधि !..

हे,भारत की नारी कृपानिधि !..
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो।

हे,भारत की नारी कृपानिधि !
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो,
अपने स्वरूप का ध्यान करो।
तुम धन, ऐश्वर्य की दासी नहीं,
तुम दुराचार की नहीं सहचर।
पापों से थर्राती धरती,
इसका तुम उद्धार करो।
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो,
अपने स्वरूप का ध्यान करो।

हे,भारत की नारी कृपानिधि !
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो।

स्नेह, प्रेम,ममता का सागर,
शक्ति का आधार भी हो तुम।
कालचक्र की पुकार सुनो अब ,
असुरों का संहार करो।
प्यार, मनोबल और अहिंसा,
अस्त्र मिला है ऐसा तुमको
इसका तुम व्यवहार करो।
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो,
अपने स्वरूप का ध्यान करो।

हे,भारत की नारी कृपानिधि !
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो।

तुम बिन यहाँ न सृष्टि धरा पर,
तुम संस्कार की जननी हो।
वैर भाव रखना ना अब तुम,
सभी जीवों से प्यार करो।
तुम कायरपुत्रों की जननी नहीं,
तुम दानवता की नहीं रक्षक।
पाश्चात्य जगत की जीवन गाथा,
इसका तुम प्रतिकार करो।
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो,
अपने स्वरूप का ध्यान करो।

हे,भारत की नारी कृपानिधि !
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो।

स्वरुप धरो उस सीते का,
तृणशक्ति के बल पर जिसने,
दशमुख के बल को निस्तेज करी।
सावित्री का देखो जिसने,
यमलोक में जाकर अडिग,
सत्यवान को फिर से पाई ।
इस युगांतर की बेला में,
अपने अस्तित्व का मान धरो।
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो,
अपने स्वरूप का ध्यान करो।

हे,भारत की नारी कृपानिधि !
तुम ध्यान करो, तुम ध्यान करो।

मौलिक एवं स्वरचित

© *मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २५/०६/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

7 Likes · 19 Comments · 1197 Views
You may also like:
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam मन
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
कुंडलियां छंद
Pakhi Jain
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
मातृ रूप
श्री रमण
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H.
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
तेरे संग...
Dr. Alpa H.
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
** शरारत **
Dr. Alpa H.
# हे राम ...
Chinta netam मन
Loading...