Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

हे,प्रियवर…!

मैं नहीं देता बधाई
हिन्दी दिवस की
आखिर क्यों दूँ?
हिन्दी हमारी न सिर्फ़ मातृभाषा
अपितु है राष्ट्रभाषा भी
अतः क्यों बाँधें हम उसे
किसी दिवस विशेष के दायरे में??
हिन्दी-हिन्दु-हिन्दुस्तान
बसते हैं हमारी रग-रग में
अतः क्यों न बोलें हम
हिन्दी की जय
रोज़-रोज़
हिन्दी के लिये जियें
हिन्दी के लिये मरें
अपने हर काम के लिये
सिर्फ़ और सिर्फ़
हिन्दी को ही वरें।
तब होगा रोज़ ही हिन्दी दिवस
अतः हे,प्रियवर
इसे किसी
दिवस विशेष में मत कस
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर

1 Like · 183 Views
You may also like:
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
If we could be together again...
Abhineet Mittal
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंतजार
Anamika Singh
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...