Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

हृदय परिवर्तन

हृदय परिवर्तन
***********
प्रेम में एक को दूसरे के प्रति
संवेदना पूर्ण
भावुकता की अनुभूति
अव्यक्त सी व्यक्त रहती है
आस्था के बीच खड़ी
सभी दीवार ढहती है,

यह कैसा प्रेम है ?
जो लालच और स्वार्थ के
दो पैरों पर चल रहा है

धोका -झूट -फरेब से
मासूम हृदय को छल रहा है
सामाजिक वर्जनाओं के मुख पर
मायूसी – हताशा की कालिख मल रहा है,

कैसे भूल सकता है वह
घर की शांत शालीन
सुखद हवा की महक
पिता के ह्रदय की कोमलता
माँ के मन की शीतलता
नैसर्गिक प्रेम के
रंगीन नन्हें पक्षियों की चहक
समीर के साथ बहती अपनेपन की महक

खुदगर्ज हो,
काट दो उन हांथो को
जिन्होंने उसे गोद में उठाया हो

बंद कर दो उन बोलों को
जिनसे लोरियां निकली हों
ठोकर मार दो उन आशाओं को
जिसने उसके अस्तित्व को बनाया हो

स्वार्थ सिद्धि के लिए प्रेम से
वह क्या पाएगा
उसका खुशहाल वर्तमान
अतीत में उसे रुलाएगा

स्मृति में होगा माँ के आँचल -पिता का साया
प्रेम एक का होगा उसके पास
बाकी संसार होगा खुदगर्ज पराया

हृदय परिवर्तन का यह प्रेम
उसे निराश करेगा
अजनबी सा दिखेगा जमाना , कदाचित !
न उसने किसी को सुना ही,
न ही खुद इसको जाना,
न ही नैसर्गिक प्रेम को परखा
और न ही प्रेम अनुभूति को पहचाना ।

– अवधेश सिंह

25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
Dr MusafiR BaithA
We all have our own unique paths,
We all have our own unique paths,
पूर्वार्थ
गुज़रते वक्त ने
गुज़रते वक्त ने
Dr fauzia Naseem shad
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चंचल मन
चंचल मन
Dinesh Kumar Gangwar
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
sushil sarna
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
शेखर सिंह
कविता
कविता
Shiva Awasthi
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
2652.पूर्णिका
2652.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सम्भल कर चलना जिंदगी के सफर में....
सम्भल कर चलना जिंदगी के सफर में....
shabina. Naaz
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*प्रणय प्रभात*
"जुदा"
Dr. Kishan tandon kranti
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
The Sweet 16s
The Sweet 16s
Natasha Stephen
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बुढ्ढे का सावन
बुढ्ढे का सावन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
*परिवार: नौ दोहे*
*परिवार: नौ दोहे*
Ravi Prakash
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
Loading...