Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2024 · 1 min read

हृदय के राम

दिखावा राम-नाम का करके
दिन रात नहीं अघाये हो
राम क्या है? राम कौन है?
क्या कभी जान भी पाए हो?

मेरे राम को समझ पाना
कोई हंसी खेल की बात नहीं
तुम्हारे जय श्री राम में सब कुछ है
लेकिन प्रभु श्री राम नहीं

तुम क्या समझो राम को
तुमने उजला रूप ही देखा है
सब कुछ देखा होगा तुमने
लेकिन दुख प्रभु का नही देखा है

गर श्री राम को समझ गए तो
समस्या विकट हो जाएगी
राम नाम तो जप लोगे पर
पीड़ा राम की न देखी जाएगी

एक बात हृदय में आई है कहूं
अगर बुरा ना मानो तुम
जय श्री राम कहने से पहले
अपने हृदय के राम को जानो तुम

इंजी. संजय श्रीवास्तव
बालाघाट मध्य प्रदेश

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from इंजी. संजय श्रीवास्तव
View all
You may also like:
माता - पिता
माता - पिता
Umender kumar
कभी जब आपका दीदार होगा
कभी जब आपका दीदार होगा
सत्य कुमार प्रेमी
मौत पर लिखे अशआर
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
Manoj Mahato
सावन तब आया
सावन तब आया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
कवि रमेशराज
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
खींच रखी हैं इश्क़ की सारी हदें उसने,
खींच रखी हैं इश्क़ की सारी हदें उसने,
शेखर सिंह
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
*प्रणय प्रभात*
That poem
That poem
Bidyadhar Mantry
सावन आज फिर उमड़ आया है,
सावन आज फिर उमड़ आया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
कदम भले थक जाएं,
कदम भले थक जाएं,
Sunil Maheshwari
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
एक तरफ तो तुम
एक तरफ तो तुम
Dr Manju Saini
2943.*पूर्णिका*
2943.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
Raju Gajbhiye
मां
मां
goutam shaw
भाईचारा
भाईचारा
Mukta Rashmi
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
शरद पूर्णिमा पर्व है,
शरद पूर्णिमा पर्व है,
Satish Srijan
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
"सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...