हुई सत्य की हार

गीतिका :-
———-

झूठ मलाईदार बहुत था, हुई सत्य की हार।
समरथ की इच्छाओं पर यह, चलता है संसार।

सदा स्वार्थ में लिपटा रहता, मन में रहता पाप,
सुधर नहीं सकता है मानव, कोशिश है बेकार।

मृत्युलोक में आकर मानव, क्यों जाता है भूल,
सांसों का चलना भी तो है , ईश्वर का उपकार।

मजबूरी करवाती हरदम, उल्टे-सीधे काम,
भूख प्यास से बेबस मानव, हो जाता लाचार।

सांसों का चलना ही जीवन, समझ रहे हैं लोग,
शुष्क मरुस्थल सम लगता है, जहाँ नहीं है प्यार।

बेशक कुछ मुश्किल आएगी, और मिलेगा कष्ट,
हार नहीं होगी यह सुन लो, जहाँ सत्य आधार।

झूठ बोलना, बैर करना, नेताओं का काम,
आग फिजाओं में सुलगाना, सत्ता के औजार।

सुखमय जीवन चाह रहे यदि, कहना मानो ‘सूर्य’,
जाति धर्म की चक्कर में तुम, करो कभी मत रार।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

3 Likes · 2 Comments · 112 Views
You may also like:
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
पापा
Kanchan Khanna
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
माँ
आकाश महेशपुरी
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा
Anamika Singh
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam मन
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
Loading...