Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2020 · 1 min read

हुआ तभी ये भान

साया जब माँ बाप का, सर से हटा सुजान ।
बूढ़ा होने का मुझे, …..हुआ तभी से भान।।

रिश्ता वो जो स्वार्थ का,हो जाए बेस्वाद ।
कर देना ही ठीक है, उसे शीॆघ्र आजाद ।।
रमेश शर्मा..

Language: Hindi
Tag: दोहा
3 Likes · 227 Views
You may also like:
आनी इक दिन मौत है।
आनी इक दिन मौत है।
Taj Mohammad
दिल बहलाएँ हम
दिल बहलाएँ हम
Dr. Sunita Singh
एक आओर ययाति(मैथिली काव्य)
एक आओर ययाति(मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
देख करके फूल उनको
देख करके फूल उनको
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
जीवन का आधार
जीवन का आधार
Dr fauzia Naseem shad
Gone
Gone
*Author प्रणय प्रभात*
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol...
Sakshi Tripathi
You are not born
You are not born
Vandana maurya
संस्कृति से संस्कृति जुड़े, मनहर हो संवाद।
संस्कृति से संस्कृति जुड़े, मनहर हो संवाद।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता का सपना
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
अफसोस
अफसोस
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें...
Seema Verma
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
दादाजी (कुंडलिया)
दादाजी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गीत
गीत
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
कक्षा नवम् की शुरुआत
कक्षा नवम् की शुरुआत
Nishant prakhar
नया दौर है सँभल
नया दौर है सँभल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌴❄️हवाओं से ज़िक्र किया तेरा❄️🌴
🌴❄️हवाओं से ज़िक्र किया तेरा❄️🌴
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक
मुक्तक
Dr. Girish Chandra Agarwal
पशु पक्षियों
पशु पक्षियों
Surya Barman
मन मन्मथ
मन मन्मथ
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बंधन
बंधन
सूर्यकांत द्विवेदी
यह नज़र का खेल है
यह नज़र का खेल है
Shivkumar Bilagrami
यह कैसा तुमने जादू मुझपे किया
यह कैसा तुमने जादू मुझपे किया
gurudeenverma198
लानत है
लानत है
Shekhar Chandra Mitra
मीलों का सफर तय किया है हमने
मीलों का सफर तय किया है हमने
कवि दीपक बवेजा
Loading...