Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 14, 2022 · 1 min read

हिरण

इधर-उधर जंगलों में,
भटक रहा है हिरण,
बिछड़ गया जब अपने झुंड से,
ना जाने क्या खोज रहा ।

दौड़ लगाता इतनी तेज,
होता बहुत ही स्फूर्तिवान,
पकड़ न सके कोई शिकारी,
आहट भांपते ही पकड़े रफ्तार ।

लंबी-लंबी लगाता छलांँग,
खाता है हरी वनस्पति-घास ,
होती है इसकी सुंदर खाल ,
देते हैं मृग नयनों की मिसाल ।

रचनाकार __
बुद्ध प्रकाश मौदहा हमीरपुर ।

2 Likes · 91 Views
You may also like:
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
" राजस्थान दिवस "
jaswant Lakhara
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
.✍️आशियाना✍️
"अशांत" शेखर
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H. Amin
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H. Amin
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
भगत सिंह का प्यार था देश
Anamika Singh
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
पिता
Mamta Rani
बंजारों का।
Taj Mohammad
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
*आत्मा का स्वभाव भक्ति है : कुरुक्षेत्र इस्कॉन के अध्यक्ष...
Ravi Prakash
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह...
Ravi Prakash
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
लगा हूँ...
Sandeep Albela
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
मां
Umender kumar
Loading...