Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

*हिन्दू हिंदुस्तान के*

*हिन्दू हिंदुस्तान के*

डरने मरने का भय छोड़ो, जीओ सीना तान के।
हम है कट्टर जिनको कहते, हिन्दू हिंदुस्तान के।।

छप्पन इंची दुनिया कहती, मोदी जिनका नाम है।
राजनीति के बड़े खिलाड़ी, करे अजूबा काम है।।

जूते चार मारते फिर भी, गिनती एक नहीं करते।
जान भले ही जाए लेकिन, विनती एक नहीं करते।।

चीनी पाकिस्तानी डरते, हस्ती जिनकी बड़ी विकट।
रिश्ते विश्व विजेताओं से, मोदी जी के बड़े निकट।।

विश्व पटल पर मोदी जी ने, ऐसी धाक जमा डाली।
ऐसी की तैसी लगता है, ड्रेगन की होने वाली।।

एक साथ सब देश कह रहे, मत हिम्मत मोदी हारो।
ड़्रेगन की छाती के ऊपर, बन्दूक से गोली मारो।।

नजर रखो चमचों के ऊपर, आंख दिखाओ आका को।
चीनी की मुंडी चढ़ बोलो, साख बचा अब काका को।।

ईंटो को पत्थर से दे देना जवाब ही हसरत हो।
सात शीश के बदले सत्तर, काट दिखाना मकसद हो।।

आंख दिखाने वाले सर की, फोडाफाडी कर डालो।
हड्डी पसली मोड़ मोड़ कर, तोड़ाताड़ी कर डालो।।

दो दो हाथ करो मोदी जी, थोड़ा सबक सीखा डालो।
होकर क्रुद्ध युद्ध को अब तो, लड़ने बिगुल बजा डालो।।

दुश्मन को पहचानो फिर से, लंका कांड रचा डालो।
खूनी दस्तों के बेड़े में, लंकाकांड मचा डालो।।

चीनी ने बाजार बढ़ाया, प्यारे भारत देश मे।
चीनी चीजें बन्द करो क्रय, लिख डालो संदेश में।।

राजनीति में कूटनीति में, मतलब बातों का होता।
बोल जेटली का सुनकरके, दुश्मन भी सम्बल खोता।।

1 Comment · 374 Views
You may also like:
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
बेरूखी
Anamika Singh
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मन
शेख़ जाफ़र खान
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
Loading...