Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2016 · 1 min read

हिन्दू एकता

याद करो सन सेतालिस को अंग्रेजों ने भारत छोड़ा ।
नाम दे दिया आजादी का इसी नाम पर देश को तोड़ा ॥
पंडितजी ने शुरू करी थी राजनिती यह जातिवाद की ।
नाम दे दिया पकिस्तान और नींव रखी आतंकवाद की ॥
जातिवाद और राजनिती बस यहीं तो करने हम आये थे ।
माईनोरिटि के नाम पर अपनी जेबें भरने हम आये थे ॥
खुले आम आतंकी पाले नाम दे दिया जातिवाद ।
साठ साल तक देश को लूटा करते रहे देश बरबाद ॥
भारत की बहू संख्यक जाति एक कभी नहीँ हो सकती है ।
तब भी पता था अब भी पता है जीत इसी से मिल सकती है ॥
हिन्दू ही हिन्दू का दुश्मन एक कभी यह हो नहीँ सकता ।
जिस दिन हिन्दू एक हो गया आतंकी देश में रह नहीँ सकता ॥

विजय बिज़नोरी

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 1130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
प्यार
प्यार
लक्ष्मी सिंह
💐प्रेम कौतुक-307💐
💐प्रेम कौतुक-307💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज फिर गणतंत्र दिवस का
आज फिर गणतंत्र दिवस का
gurudeenverma198
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
Adarsh Awasthi
फल आयुष्य
फल आयुष्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"खुदा से"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुस्की दे प्रेमानुकरण कर लेता हूॅं।
मुस्की दे प्रेमानुकरण कर लेता हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
Ram Krishan Rastogi
*यात्रा पर लंबी चले, थे सब काले बाल (कुंडलिया)*
*यात्रा पर लंबी चले, थे सब काले बाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जाग मछेंदर गोरख आया
जाग मछेंदर गोरख आया
Shekhar Chandra Mitra
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हमनें मांगी कहां दुआ कोई
हमनें मांगी कहां दुआ कोई
Dr fauzia Naseem shad
चाँदनी में नहाती रही रात भर
चाँदनी में नहाती रही रात भर
Dr Archana Gupta
सावन
सावन
Madhavi Srivastava
2551.*पूर्णिका*
2551.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
पूर्वार्थ
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
Basant Bhagawan Roy
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
Ms.Ankit Halke jha
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
#यादों_का_झरोखा
#यादों_का_झरोखा
*Author प्रणय प्रभात*
डूब कर इश्क में जीना सिखा दिया तुमने।
डूब कर इश्क में जीना सिखा दिया तुमने।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
“आसमान सँ खसलहूँ आ खजूर पर अटकलहूँ”
“आसमान सँ खसलहूँ आ खजूर पर अटकलहूँ”
DrLakshman Jha Parimal
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
Rohit yadav
Loading...