Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 1 min read

हिन्दुस्तान है

हिंदुस्तान है
(घनाक्षरी छंद)

गुरूजी ने कहा एक शब्द के अनेक अर्थ
होते बेटा शब्दों की पूरण करो छान है
सत्य, प्रेम, सदभाव, क्षमा, दया, तप, त्याग,
सुंदर सुखद विश्व हित स्वाभिमान है
इन सभी शब्दों को बताओ एक शब्द में ही
आज तक मुझसे जो सीखा शब्दज्ञान है
शिष्य बोला सबको बताने वाला एक शब्द
मेरी जानकारी में गुरुजी हिंदुस्तान है

गुरू सक्सेना नरसिंहपुर (मध्यप्रदेश )

1 Like · 234 Views
You may also like:
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ
आकाश महेशपुरी
Green Trees
Buddha Prakash
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Kanchan Khanna
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...