Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 9, 2022 · 2 min read

हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल

हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
(हास्य कविता)
~~°~~°~~°
आया है अब तो,हिंदी साहित्य का फेसबुकिया काल,
सोशल मीडिया पर हो रहा,रोज नया धमाल।
कोरोना काल से अभिशप्त,जो मानव था,
हो गए उनके ज़ज्बात,जब मन में कुंठित।
तो चीरती सन्नाटों में कलम को पकड़े,
साहित्य जगत में होने लगे,रोज नए सृजन निर्मित।
लाॅकडाउन से जो परेशान था गृहस्थी रथ,
अब साहित्य जगत की ओर मुड़ने लगा ।
पतिदेव ने जब कलम पकड़ी,
तो काव्य की गूँज,
दूर तलक सुनाई देने लगी बेहिसाब।
पत्नी भी कहाँ पीछे रहने वाली,
सब कामकाज निपटा,
वीडियो रील और लाइव को रहने लगी बेताब।
फिर तो हुआ सोशल मीडिया पर,
हर तरफ धमाल ही धमाल निशिदिन।
फेसबुकिया ग्रुपों में अब देखो,
साहित्य सृजन की कैसे होड़ मची प्रतिदिन ।
देवभाषा संस्कृत की कोख से निकली हिन्दी,
अब समृद्ध हो रही सेकुलर उर्दू से दिन-ब-दिन।
जब डेढ़ जी बी फ्री डाटा का होने लगा,
पूरा का पूरा इस्तेमाल।
तो साहित्य जगत हुआ,
पुरस्कार और सम्मान से मालामाल।
जिसका सितारा गर्दिश में था ,
वो बन गया उभरता सितारा।
पुराने कवि और लेखक ये सब जानकर ,
करने लगे खुद को किनारा ।
जिसे बोलना ही नहीं आता कभी,
वो बन गए बातचीत में माहिर ।
एडमिन और मोडरेटर की तो मत पुछो ,
उनकें नखरे अब जगजाहिर ।
कवि मन कभी निराश न होना जग से,
सच्चे दिल से तुम सृजन करो,बनके साहित्य प्रेमी।
पर कमी पर जाए यदि,अवार्ड और सम्मानों की ,
तो बना लेना तुम भी,कोई फेसबुकिया ग्रुप क्षेमी।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०९ /०४ /२०२२
चैत,शुक्ल पक्ष,अष्टमी,शनिवार ।
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201

9 Likes · 10 Comments · 343 Views
You may also like:
तुम...
Sapna K S
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
पंचशील गीत
Buddha Prakash
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
फूल की महक
DESH RAJ
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
रुक क्यों जाता हैं
Taran Verma
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
घर की इज्ज़त।
Taj Mohammad
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
मेरा बचपन
Ankita Patel
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
Born again with love...
Abhineet Mittal
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...