Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 1 min read

हिन्दी मेरी प्यारी

सारे जहाँ से अच्छा
हिंदी और हिन्द हमारा,
हमें नाज है दोनो पर
आला भाषा है यह
और आला देश हमारा;
भाषा हिन्दी है ऐसी
जो सबको है समा लेती,
किसीको बैर नहीं इससे
हर प्रांत के निवासी
इसे आसानी से अपना लेती;
फिर क्यों न करुँ मैं
जयजयकार हिंदी की ,
भाषा है यह मेरी प्यारी
बने भाषा पुरी विश्व की !

301 Views
You may also like:
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
पिता
Deepali Kalra
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
इंतजार
Anamika Singh
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
बुध्द गीत
Buddha Prakash
Loading...