Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

हिन्दी दिवस विशेष हाइकु

हाइकु : प्रदीप कुमार दाश “दीपक”

हिन्दी दिवस विशेष 
    _________

01. प्यारी व न्यारी
हिन्दी भाषा हिन्द की
लिपि नागरी ।

02. सजी है हिन्दी
माँ भारती के माथे
बन के बिन्दी ।

03. हिन्दी प्रखर
झरझर स्वर में
बहे निर्झर ।

04. हिन्दी की नदी
कलकल करती
गीत सुनाती ।

05. हिन्दी की वाणी
सूर मीरा तुलसी
धन्य लेखनी ।

06. हिन्दी है मान
हृदय से सुनाती
मानस गान ।

07. धन्य साकेत
थी नारी उपेक्षित
हुई मण्डित ।

08. सोने सी खरी
चाँदी जैसी उज्ज्वल
निर्मल हिन्दी ।

09.माटी सुगंध
ममता का आँचल
करूणा हिन्दी ।

10. उर्दू की दीदी
मराठी की संगिनी
गौरव हिन्दी ।

11. है वरदान
शारदे का सम्मान
हिन्दी महान ।

12. ज्ञान है हिन्दी
हमारी पहचान
सम्मान हिन्दी ।
       ●●●
□ प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
साँकरा, जिला -रायगढ़ (छ.ग.)
मो.नं. 7828104111

155 Views
You may also like:
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
अनामिका के विचार
Anamika Singh
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पल
sangeeta beniwal
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
गीत
शेख़ जाफ़र खान
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
पापा
सेजल गोस्वामी
प्यार
Anamika Singh
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...