Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

हिन्दी दिवस पर विशेष….

भाषा विचारों की अभिव्यक्ति है जिसके माध्यम से हम एक दूसरे के मनोभावों को जानने और समझने का प्रयास करते हैं प्रत्येक देश में अनेक प्रकार की भाषाएँ बोली जाती हैं सबका अपना अलग साहित्य है सभी भाषाएँ अपने में महती स्थान रखती हैं!जन्म लेते ही बच्चा जब रोता है तब आवाज होती है “के हौं” इससे तात्पर्य ये बताया गया कि बच्चा ईश्वर से कहता है कि हम कहाँ आ गये है?कहने का तात्पर्य बालक के जन्म से ही भाषा का प्रयोग प्रारम्भ हो जाता है जिसे हम मातृभाषा की संज्ञा से विभूषित करते हैं भारत की तकरीबन 60 प्रतिशत जनता गाँव में जीवन यापन कर रही है जहाँ पर आँचलिक बोलियों का पुट भी विद्यमान है जिसमें एक अजीब सी मिठास की अनुभूति होती है!भारत ऐसा समृद्ध और शक्तिशाली देश है जो विश्वपटल पर हिन्दी भाषी- वासी देश जाना जाता है हम हिन्दी तबके के लोग थोड़ा शर्म महसूस करते हैं जब हमारे संवाद हिन्दी में होते हैं क्योंकि नकल करने की आदत जो है!लेकिन आज पश्चिमी देशों की सभ्यता और संस्कृति में हमारी राजभाषा हिन्दी चार चाँद लगा रही है!मारिशस में रहकर अभिमन्यु अनत जहाँ प्रेमचन्द की उपाधि से विभूषित हो रहे हैं वहीं फिजी में हमारे अवध प्रान्त की बोली ‘अवधी” विशेष रूप से उल्लेखनीय है!वहाँ लोग तुलसी के रामचरित मानस और जायसी का नागमती वियोग वर्णन नायिका के ह्रदय की पीड़ा को बखूबी समझकर झकझोर-झकझोर शृंगार के वियोग पक्ष की गहरी स्वानुभूति करते हैं!
वैश्विक स्तर पर आज हिन्दी का बड़े पैमाने पर परचम है!विदेशी दूतावासों में हिन्दी के अनुवादकों और लेखकों की डिमाण्ड है आपने स्वयं भी महसूस किया होगा ज्यादा दूर नहीं बस अपने सोशल साइट्स के एकाउण्ट पर ही कितनी बड़ी मात्रा में लोग हिन्दी में लिखने लगे हैं!आज के दौर में अमूमन हर वह व्यक्ति जिसके पास एनड्रायड सेट है वो कवि और साहित्यकार है इतनी बड़ी मात्रा में इजाफा हुआ है हिन्दी भाषा में शब्दों को सामने प्रस्तुत करने में!अनेक हिन्दी पोर्टल,ब्लॉग बनाये गये हैं जिससे हिन्दी भाषा समृद्धि के बहुत निकट रहे!अनेक प्रकार के वेब-पोर्टल जिनके संवाद हिन्दी में हैं!
आज हिन्दी दिवस का पावन पर्व है आज ही के दिन मतलब की 14 सितम्बर सन् 1949 को हिन्दी भाषा को संवैधानिक दर्जा प्राप्त हुआ था (भाग-17 अनुच्छेद 343-351)
इस कारण ही प्रत्येक वर्ष 14 सितम्बर को हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है!आज हिन्दी में कैरियर की भी असीम सम्भावनाएँ है स्क्रिप्ट,राइटर,अनुवादक,कहानी लेखक,कविता,उपन्यास,गजल अादि विधाओं से आप अपना भविष्य सुरक्षित कर सकते हैं!
उत्सव और उमंग है मन में आनन्द ही आनन्द है क्योंकि हम हिन्दी पट्टी लोगों की मातृभाषा ,राजभाषा की वर्षगाँठ है!चलिए संकल्प लेते हैं आज कि हम किसी भी भाषा का तिरस्कार नहीं करेंगे संविधान में वर्णित 22 भाषाएँ सब हमारी माँ (हिन्दी) की बहनें है!हिन्दी दिवस के शुभअवसर पर अशेष शुभकामनाएँ आप सभी को….
वाणी से फूटा हर शब्द मातृभाषा का हो
गोदान से लेकर कामायनी इस भाषा का हो
तुम रचते रहो साहित्य शक्ति सदैव
कलम से निकला हर शब्द मातृभाषा का हो
.
फिर से जन्म ले निराला और प्रसाद
महादेवी के विरह की हो हर पल अनुभूति
प्रेमचन्द और मोहनराकेश बनो
रचते रहो बसते रहो अनवरत्
गोदान,गबन,कफन आखिरी चट्टान तक!
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार,रायबरेली(उ0प्र0)

275 Views
You may also like:
पिता
Deepali Kalra
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की याद
Meenakshi Nagar
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
यादें
kausikigupta315
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
पिता
Meenakshi Nagar
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बोझ
आकांक्षा राय
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Saraswati Bajpai
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
पिता का दर्द
Nitu Sah
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...