Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 2 min read

हिन्दी की आत्म कथा

हिन्दी की आत्मकथा
मैं हिन्दी हूँ, देव भाषा संस्कृत से मेरा प्रादर्भाव हुआ है। मेरे जन्म काल का वास्तविक पता न तो मुझे है न ही इतिहास को क्योकि युगो युगो से भारत ही साक्षी है।भारत और मेरा सम्बन्ध चोली-दमन की तरह है।भारत को विश्व का सर्वश्रेष्ट देश होने का समय मैने देखा है,उस समय मैं भी उत्कृट स्थान पर रहते हुए सफलता की कामना करती थी।
अनुवॉंशिक गुणों के कारण ५२ अक्षरों से दुनिया के समस्त उच्चारण,ध्वनि को व्यक्त करने की सामर्थं मुझ में समाहित है। सर्वाधिक लोगों द्वारा बोली एवं समझे जाने वाली भाषा होने का गौरव भी प्राप्त है।
परन्तु भारत की परतंत्रता के समय कई विदेशी भाषायों के आगमन से मेरी सम्प्रभुता को नष्ट करने की चेष्टा की गई।मैने अपने लचीले स्वभाव व सरलता पूर्ण व्यवहार से सभी को आत्मसात कर अपने कोश का ही विस्तार कर लि़या तथा विदेशी भाषायों को पंगु बना दिया ।देश की आजादी की जंग में कोने कोने तक संदेश भेजने,जन जाग्रति लाने,एकजुट करने का काम कविता, कहानी, कथा एवं गीतो के माध्यम से मेरा द्वारा ही होता रहा।इस समय के महापुरूषों रवीन्द्रनाथ टैगोर,महात्मा गॉधी,सुभाषचन्द्रबोस तथा जवाहर लाल नेहरू आदि ने देश के विकास का श्रेय मातृभाषा को ही बताया साथही मुझ हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाना चाहा।लेकिन
कुछ षडयंत्रकारी विदेशी दासता
के हमसफर मुट्ठी भर लोगो ने शासन और शोषण करने मेरी उपेक्षा कर दी। संविधान मे १५ वर्ष तक अंग्रेजी को मुख्य तथा मुझे सहायक माना गया।इस चूक का ही परिणाम है कि आज भी आजादी व गुलामी का फर्क अनपढ भोले भाले ग्रामीण नहीं जान पाये।
कानूनी काम ,दफ्तर काम ,पढ़ाई सभी विदेशी भाषा में होने से समाज शासक वर्ग और शोषित वर्ग में विभाजित होता जा रहा है। भारत के साथ आजाद होने वाले देशों की तुलना में भारत पिछड़ा देश है जबकि अन्य आगें निकल गये। इसका मूल कारण मातृभाषा मुझ हिन्दी को तिरस्कृत करना है। जब मेरे अपने ही अपने ही हिन्दीभाषी क्षेत्र में विदेशी भाषा बोलते है तो मुझे वो दुर्दिन याद आते है जैसे शासक परदेशी हो।
१४सितम्बर हिन्दी दिवस सन१९५३ से मनाने की परम्परा सिर्फ एक राजनैतिक सोच प्रदर्शित करता है। एक दिन की चॉदनी फिर अंधेरी रात को चरितार्थ
करने वाली कहावत है ।
। जयहिन्द।

2 Likes · 4359 Views
You may also like:
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
Green Trees
Buddha Prakash
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Santoshi devi
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
यादें
kausikigupta315
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
Loading...