Sep 15, 2016 · 1 min read

हिन्दी का संबल

अगर न मिलता हिन्दी का संबल,
क्या हिमालय पहरा देता,
कल आज और कल ?
क्या विचारों की गंगा
बहती यूँ ही अविरल ?

क्या उगलती सोना धरती ?
क्या उगती गुड़ की फसल ?
क्या तिरंगा यूँ लहराता ?
क्या चलते खेतों में हल ?

मैं और तुम कभी हम न बनते
कहाँ से आता एका और बल ?
अखण्ड भारत की परिकल्पना
क्या हो पाती कभी सफल ?
अगर न मिलता हिन्दी का संबल …

न टूटती दासता की जंज़ीरें
कैद में होती सबकी तक़दीरें
ख़्वाब वतन की आज़ादी का
धूमिल होता हर दिन हर पल ..
अगर न मिलता हिन्दी का संबल ..!

उत्तर से दक्षिण न मिलता,
न पश्चिम से पूरब .
खंड-खंड टुकड़ों टुकड़ों में
बटें हुए होते हम सब ..
फिर ख़्वाब ही बनकर रह जाता
आने वाला सुनहरा कल ..
अगर न मिलता हिन्दी का संबल ..

हम जो होते मगध निवासी,
तो तुम कहलाते काशी वासी,
अपने पुरखों की भूमि पर
कोई न होता भारतवासी ..
सोचो तनिक फिर कौन निगलता
महजब-मंथन का हलाहल ?
अगर न मिलता हिन्दी का संबल …

—— जितेन्द्र जीत

97 Views
You may also like:
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H.
Angad tiwari
Angad Tiwari
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
सच
अंजनीत निज्जर
पिता
Madhu Sethi
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
अप्सरा
Nafa writer
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
हिरण
Buddha Prakash
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
"साहिल"
Dr. Alpa H.
Loading...