Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 2 min read

हिंदी

जब हृदय के भाव बहकर,ऊफान पर आ जाते है
आ जाते है तब भाव बहकर,भाषा वो बन जाते है
भाषाएँ तो जग में हर पग ,रूप बदलती जाती है
जो हृदय में करती बसेरा, मातृभाषा कहलाती है।

गर्व है हम हिंदी है और यह हृदय की भाषा है
लगता जैसे कई जनम से इससे हमारा नाता है
भाषा ये कोमल, मधुर ,हर शब्द जैसे भाता है
प्यारे इसके गीत सुनकर,दिल चैन से सो जाता है।

तुलसी के मानस को सुनकर,भक्ति ही छा जाती है
सूर के गीतों से तो पावन, भावना जग जाती है
मीरा के गीतों से दिल में, करुणा सी भर आती है
और कबीरा को तो सुनकर, माया ही मिट जाती है।

रीतिसिद्ध जो थे बिहारी, उसकी रचना बहुत प्यारी
केशव की रचना भी निराली,दौर था वो तो श्रृंगारी
विरह में घनानंद तड़पा,सुजान थी उसकी तो प्यारी
वीरता से भरी हुई थी, भूषण की कविता सारी-सारी।

आया फिर नवदौर और हिंदी बनी जन की कहानी
भारतेंदु का मंडल था भारी,नवजन्म लेती है कहानी
महावीर ने भाषा सुधारी, गुप्त ने कविता निखारी
हरिऔध की भाषा सुहानी,बुझी हुई थी ज्योत जगानी।

लेखन जगत में सम्राट आया,प्रेमचंद का प्रेम मिला
पात्र उसके भोले-भाले, आजादी को बल मिला
और कई कथाकार आये,सब के सब ही मन को भाये
दौर था वो परतंत्रता का,कैसे विवश थे सब रे हाय!

परिवेश की मृदुल मधुरता ,में खोये हमको पंत मिले
बिन छंद की कविता के निराले,सूर्य से वो कंत मिले
देवी ही ना हमको मिली हमको तो महादेवी मिली
कामायनी के प्यारे सृजक, प्रसाद में खुद शंकर मिले।

ऐसे प्यारे खूब कवि है
चमके ऐसे जैसे रवि है
दिन न केवल रात भी चमके
ऐसी मधुर उनकी छवि है
नाम सबका ले न पाया
इन्हें भले ही देख न पाया
खुश हूँ फिर भी पढ़के इनको
मुझ पर रहेगा इनका साया।

– नन्दलाल सुथार “राही”

1 Like · 65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नन्दलाल सुथार "राही"
View all
You may also like:
आपकी याद
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
Anis Shah
दौर ए हाजिर पर
दौर ए हाजिर पर
shabina. Naaz
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
राम ! तुम घट-घट वासी
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
कुर्सी के दावेदार
कुर्सी के दावेदार
Shyam Sundar Subramanian
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ट्रेन दुर्घटना
ट्रेन दुर्घटना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
देर
देर
पीयूष धामी
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आंखों में जब
आंखों में जब
Dr fauzia Naseem shad
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
Mystical Love
Mystical Love
Sidhartha Mishra
मेहनत
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हायकु
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
Seema Verma
*अब भी भ्रष्टाचार है (गीतिका)*
*अब भी भ्रष्टाचार है (गीतिका)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ਸਾਥੋਂ ਇਬਾਦਤ ਕਰ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੀ
ਸਾਥੋਂ ਇਬਾਦਤ ਕਰ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੀ
Surinder blackpen
हम रिश्तों में टूटे दरख़्त के पत्ते हो गए हैं।
हम रिश्तों में टूटे दरख़्त के पत्ते हो गए हैं।
Taj Mohammad
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
मुझे धरा पर न आने देना
मुझे धरा पर न आने देना
Gouri tiwari
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक तस्वीर तुम्हारी
एक तस्वीर तुम्हारी
Buddha Prakash
ईद की दिली मुबारक बाद
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"तब कैसा लगा होगा?"
Dr. Kishan tandon kranti
■ हर दौर में एक ही हश्र।
■ हर दौर में एक ही हश्र।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...