Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

हिंदी

भारत है एक,
भाषाएं अनेक,
जैसे रिश्तों में चाची, मामी, मौसी, ताई,
पर मां तो मां होती है।
सभी आदरणीय, सभी हमें स्मरणीय,
पर मां तो पूज्यनीय होती है।
सभी विद्वानों का चिंतन,
सभी संतों की भाषा,
पर जनवाणी तो वंदनीय होती है।
भाषाएँ सभी पुष्प,
खिलें एक ही उपवन में,
पर गुलाब तो गुलाब होता है,
खिलता है तो पूरा गुलशन महकता है।

16 Views
You may also like:
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
*"पिता"*
Shashi kala vyas
प्यार
Anamika Singh
Green Trees
Buddha Prakash
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
उसकी रज़ा में
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
हम सब एक है।
Anamika Singh
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...