Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 11, 2017 · 2 min read

हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा

15 अगस्त आने को है। आज़ादी मिल चुकी है। मिली क्यों कि तब हमारे सामने एक लक्ष्य था- अंग्रेजों से छुटकारा।
हमने बहुत प्रगति कर ली है। किंतु हम अभी भी विकासशील के पथ पर ही हैं विकसित होने के लिए हमें एकजुट होना चाहिए और सबसे पहले तो अपने स्वेदेश के प्रति वही प्यार और एहसास जगाना होगा जो पहले था। आज हम सिर्फ शिकायतें करते हैं, करते कुछ भी नहीं। कोई व्यक्तिगत जिम्मेदारी नहीं लेते–

हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा

याद दिलाओं स्वयं को, दोबारा चौबारा
हिंदी हैं हम वतन है, हिंदुस्तान हमारा
मंसा, वाचा, कर्मणा में हरदम लगाओ नारा
हिंदी हैं हम वतन है, हिंदुस्तान हमारा

स्कूलों में हमारे अनिवार्य है, अंग्रेजी में बतियाना
बोलोगें अगर तुम हिंदी, तो लगेगा भारी जुर्माना
स्कूल में आते-जाते बच्चे होते हैं, बहुत ही सादा सच्चे
मिट्टी के हैं ये सांचे, जो ढालो वैसा वतन हमारा
याद दिलाओं स्वयं को, दोबारा चौबारा
हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा

बोलो तुम अंग्रेजी, पहनों तो तुम अंग्रेजी
तुम्हारी शान बढ़ेगी, दिखोगे अगर विदेशी
ये माथे की बिंदिया, यह इठलाती हुई चुनरिया
उसपे शब्द हिंदी के क्या गवारों का तुम्हारा घराना?
याद दिलाओं स्वयं को, दोबारा चौबारा
हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा

दिमाग से हो चाहे पैदल, घिरे अनैतिकता के बादल
पर हो अंग्रेजी का एक्सेंट, चाहे करो मेढ़कों सी टर्र-टर्र
भाए न अपना सादा भोजन, खाना है दूजे की थाली का खाना
स्वेदेश पे अपनी शर्मिंदगी, विदेश पर तुम्हें है इतराना
याद दिलाओं स्वयं को, दोबारा चौबारा
हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा

हिंदी में काम कर लो, हिंदी में काम कर लो
मिलेगा सरकारी प्रोत्साहन, कुछ तो लिहाज़ कर लो
अंग्रेजों के शासन से तो मिल गई हमको मुक्ति,
बीत गए इतने वर्ष, अंग्रेजी न छोड़े दामन हमारा
याद दिलाओं स्वयं को, दोबारा चौबारा
हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा

जब मान ही नहीं है मन में
तो देश की शान बढ़ेगी कैसी,
मातृ-भूमि को तज के बोलो
प्रगति की रफ्तार बढ़ेगी कैसे,
जिस मिट्टी में जी रहे हैं, जिस मिट्टी का खा रहे हैं
रखते हैं उसी धरा से खुद को हमेशा अंजाना
याद दिलाओं स्वयं को, दोबारा चौबारा
हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा

कहता है बच्चा-बच्चा
कुछ भी नहीं है यहां अच्छा,
गंदगी यहां बहुत है,
भ्रष्टाचारी पहने विजय का तमगा
कुछ करते तो हम नहीं हैं
बस है शिकायतों का ताना-बाना
याद दिलाओं स्वयं को, दोबारा चौबारा
हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा

मीनाक्षी 10-08-17© सर्वाधिकार सुरक्षित

1160 Views
You may also like:
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Aruna Dogra Sharma
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
गीत
शेख़ जाफ़र खान
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गीत
शेख़ जाफ़र खान
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
Loading...