Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 13, 2017 · 1 min read

हिंदी भाषा का महत्व

विश्व का विज्ञान है हिंदी, मस्तक पर ताज है बिंदी
भारत का गौरव है हिंदी, जन- जन की भाषा है हिंदी ।।

एकता की ये अनूठी मिसाल, सारे जग में करे कमाल
हमारी है ये आन- बान, राष्ट्र के अस्तित्व की पहचान ।।

संस्कृत कहलाती इसकी जननी, ये भी सब भाषाओं की जननी
सरल, सुबोध, सुगम है हिंदी, साहित्य का सागर है हिंदी ।।

हिंदी हमारी शान है, वाणी का अनुपम वरदान है
भावों को ये सहज बनाये, गीतों में मधुरता लाये ।।

वर्ण- भेद को ख़त्म ये करती, भाई- चारा को ये समझाती
जांति- पाँति, मज़हब के मध्य, सेतु का काम ये करती ।।

हमारी राष्ट्र- भाषा है हिंदी, युवा पीढ़ी जिसे नकार रही
निर्धन की भाषा समझ इसे, अपमान इसका कर रही ।।

अंग्रेज़ी बोलने में युवा , प्रतिष्ठा अपनी हैं समझते
स्वदेश में रहकर भी , विदेशी भाषा हैं अपनाते ।।

आओ मिलकर आवाज़ लगायें , नवयुवक का निर्माण करें
सर्वत्र हो बोलबाला हिंदी का, हर जन तक इसे पहुँचायें ।।

हिंदी का उत्थान करें हम, आओ सब मिलकर प्रण लें हम
सारे विश्व की गुरू बन जाये, जगमग क़लम की ज्योति बन जाये ।।

जब तक सूरज- चाँद गगन में, विश्व की भाषा कहलाये हिंदी
विश्व का विज्ञान है हिंदी, मस्तक पर ताज है बिंदी ।।

** मंजु बंसल **
जोरहाट

( मौलिक व प्रकाशनार्थ)

390 Views
You may also like:
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
Loading...