Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 1 min read

हिंदी दिवस पे हिंदी घुट-घुट के रो रही है

हिंदी दिवस पे आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
पर मुझे तो ऐसा लगता है कि हिंदी हमसे कुछ कह रही है—–

हिंदी दिवस पे हिंदी घुट-घुट के रो रही है,
बच्चों के रहते मां की क्या हालत हो रही है

दुनिया में जब थे तुम आए, मुझ में ही तो
की थी तुमने प्रथम वो अभिव्यक्ति,
विचारों की थी मैं वाहिनी, ख्वाबों का थी मैं ठिकाना
मन को बोलने की मैने ही दी थी शक्ति,
अब जो कुछ तुम बन गए हो
इंग्लिश से चिपक गए हो,
बुद्धि को दिया जिसने पोषण
उसी पे ताने कस रहे हो,
हिंदी दिवस पे चाहे कई प्रतियोगिताएं चल पड़ी हैं
मानसिकता में तो इससे आई न कोई कमी है,
हिंदी दिवस पे हिंदी यह शिकायत कर रही है
हिंदुस्तान में आखिर क्यों हिंदी सिसक रही है–

क्यों आज अपनी ही मातृ-भूमि में जन्म लेकर
भी अपनी भाषा में काम करने को चाहिए हमें प्रोत्साहन,
इनाम दोगे तो काम करेगें, न दोगे तो दे देंगे टेंशन,
कई साल बीत गए यारों अब तो न बनाओ बहाने
कुछ मौलिकता की धुन बजाओ, छोड़ो विदेशी धुनों पर नाच-गाने
अपनाओगे अपनी भाषा तो कुछ नया सा कर पाओगे
वर्ना जीवन भर दूजे की लिखावट को कॉपी ही करते जाओगे,
हिंदी दिवस पे हिंदी फरियाद सी कर रही है
अपना लो राजभाषा हिंदी, देश की प्रगति की भी यही रजा है—

मीनाक्षी भसीन© 14-09-17सर्वाधिकार सुरक्षित

166 Views
You may also like:
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
लक्ष्मी सिंह
Loading...