Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

हिंदी दिवस पर चार पंक्तियाँ

“हिन्दी”
पर मेरा प्रयास
???
कितनी सरस है प्यारी भाषा हमारी हिन्दी
सारे जगत में न्यारी सबकी दुलारी हिन्दी

संकल्प आज कर लें सम्मान यूँ करेंगे
हो राष्ट्र की ये भाषा अब तो ये प्यारी हिन्दी

प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
14/09/2017

330 Views
You may also like:
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
तीन किताबें
Buddha Prakash
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
मन
शेख़ जाफ़र खान
महँगाई
आकाश महेशपुरी
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
आस
लक्ष्मी सिंह
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
Loading...