Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 15, 2017 · 1 min read

हिंदी का उत्थान

मुक्तक
१.
अपनी भाषा हिंदी का उत्थान करें हम।
इसी हेतु जागृत अपना स्वाभिमान करें हम।
दैनिक सब कार्यों में इसको ही अपनायें
इससे ही संचालित हर संस्थान करें हम।
२.
पूरी दुनिया में हिन्दी का मान बढ़ रहा।
साथ साथ ही भारत का सम्मान बढ़ रहा।
स्थिति अनिश्चय की अब बिल्कुल दूर हो। रही।
प्रगति पथ पर ज्ञान और विज्ञान बढ़ रहा।
३.
पूर्ण जगत में हो रहा, हिन्दी का विस्तार।
और साथ ही बढ़ रहा, भारत के हित प्यार।
यह भाषा है प्रिय बहुत, सबके मन को भाय।
इसी सत्य में है निहित, राष्ट्र प्रेम का सार।
४.
हिन्दी है इस देश के, गौरव की पहचान।
रोज रोज के काम में, इसको दें अधिमान।
सभी दिशा में हम करें, इसका खूब प्रसार।
राष्ट्रभाव के ऐक्य का, सूत्र इसी में जान।
५.
ज्ञान और विज्ञान का आधार हिन्दी।
कर रही है स्वप्न सब साकार हिन्दी।
बढ़ रहे हैं कदम आगे ही निरंतर।
कर रही नव शक्ति का संचार हिन्दी।
*************************
-सुरेन्द्रपाल वैद्य,
पाल ब्रदर्स, मण्डी- १७५००१ (हि.प्र.)

1 Comment · 586 Views
You may also like:
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
संत की महिमा
Buddha Prakash
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
Green Trees
Buddha Prakash
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
रफ्तार
Anamika Singh
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
Loading...