Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2016 · 1 min read

हास्य कविता-जब भी मिलेगा जाम

कल हमें कहीं जाने का एक पड़ा काम।
तभी रास्ते में लग गया बहुत बड़ा जाम।
टेम्पू और दो बसें अटी-सटी खड़ी थीं ।
लोगों के आने -जाने में बाधायें बड़ी थीं
दो बसों के बीच से कुछ पतले लोग निकल रहे थे ,
कुछ कुत्ते बसों के नीचे से होकर चल रहे थे ।।
हमने भी सोचा कि हम भी बीच से होकर निकल जायें,
अपनी जगह पर पहुँच कर जल्दी से काम कर आयें ।।
यही सोचकर हमने बीच से निकलना चाहा ,
हाथ पैर निकाले और अपना मोटा पेट बीच में सटाया ।।
हमें लगा कि हम बीच में गये फँस,
आश्चर्य चकित देख रहे थे हमें लोग हँस
इतने में उधर से एक मोटा व्यक्ति आया
आब न ताब देखा बीच में अपना मोटा पेट सटाया ।।
हम दोनों ओर बसों के बीच फँस रहे थे
हमें देख सभी लोग जोर जोर से हँस रहे थे ।।
इतना देख हम दोनों ने बहुत जोर लगाये,
कुछ फँसे थे दायें कुछ फँसे थे बायें ।।
हारे पहलवान से हम बीच में थे ठाड़े,
इस जोर की आजमाइश में हमने अपने कपड़े फाड़े।।
ऐसा लगा कि जैसे हमने योद्धा हों पछाड़े।।
भीगी बिल्ली से हम पढ़ रहे थे पहाड़े।।
इतनी देर में ड्राइवर ने बस की स्टार्ट,
जगह हो जाने पर जाम खुल गया फटाक ।।
हमने पकड़े कान खाई कसम फिर ऐसे न करेंगे काम ,
इंतजार कर लेंगे हमें जब भी मिलेगा जाम।।

Language: Hindi
329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
Sanjay ' शून्य'
भूले बिसरे दिन
भूले बिसरे दिन
Pratibha Kumari
प्रियतमा
प्रियतमा
Paras Nath Jha
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
पिता
पिता
Surjeet Kumar
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
2783. *पूर्णिका*
2783. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम बिहार छी।
हम बिहार छी।
Acharya Rama Nand Mandal
*मृत्यु  (कुंडलिया)*
*मृत्यु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
Er. Sanjay Shrivastava
इश्क़ भी इंकलाबी हो
इश्क़ भी इंकलाबी हो
Shekhar Chandra Mitra
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
प्रेम की परिभाषा
प्रेम की परिभाषा
Shivkumar Bilagrami
रात हुई गहरी
रात हुई गहरी
Kavita Chouhan
शेयर
शेयर
rekha mohan
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ मुक्तक / सियासत पर
■ मुक्तक / सियासत पर
*Author प्रणय प्रभात*
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गीत-बेटी हूं हमें भी शान से जीने दो
गीत-बेटी हूं हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
पैसा पैसा कैसा पैसा
पैसा पैसा कैसा पैसा
विजय कुमार अग्रवाल
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
Jyoti Khari
ये आसमां ये दूर तलक सेहरा
ये आसमां ये दूर तलक सेहरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
शिक्षा पर अशिक्षा हावी होना चाहती है - डी के निवातिया
शिक्षा पर अशिक्षा हावी होना चाहती है - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...