Oct 18, 2016 · 1 min read

हाले-दिल गैरों से खुलकर के बताया न गया

हाले-दिल गैरों से खुलकर के बताया न गया
ज़ख़्म ऐसा था किसी तरह् छुपाया न गया

टूटे रिश्तों में यकीं फिर से जगाया न गया
फ़ासिला दरमियाँ दिल के था मिटाया न गया

जो जलाया था कभी प्यार से उसने दिल में
वो मुहब्बत का दिया मुझसे बुझाया न गया

काम आसान नहीं तो कोई मुश्किल भी न था
प्यार दोनों से मगर अपना निभाया न गया

उसने लूटा था मुझे प्यार में अपना कहकर
हाँ मगर शोर कभी मुझसे मचाया न गया

बाँट देंगे हमें इक रोज़ सियासी कमज़र्फ
वक़्त से पहले अगर खुदको बचाया न गया

कोशिशें ख़ूब की ‘माही’ ने मगर हो न सका
दिल का घर चाह के भी फिर ये सजाया न गया

माही
15 अक्टूबर, 2016

2 Comments · 142 Views
You may also like:
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
पिता
Neha Sharma
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आ जाओ राम।
Anamika Singh
"साहिल"
Dr. Alpa H.
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H.
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
**किताब**
Dr. Alpa H.
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
Loading...