Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2022 · 1 min read

हायकू

गारा पडल्या,
बे मोसम टपोऱ्या_
पिके जळाली….

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अश्क़
अश्क़
Satish Srijan
झूठी साबित हुई कहावत।
झूठी साबित हुई कहावत।
*Author प्रणय प्रभात*
जब ऐसा लगे कि
जब ऐसा लगे कि
Nanki Patre
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
Upasana Upadhyay
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
2234.
2234.
Dr.Khedu Bharti
जाग मछेंदर गोरख आया
जाग मछेंदर गोरख आया
Shekhar Chandra Mitra
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-423💐
💐प्रेम कौतुक-423💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
Seema Verma
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर मसाइल का हल
हर मसाइल का हल
Dr fauzia Naseem shad
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
Sandeep Mishra
किस हक से जिंदा हुई
किस हक से जिंदा हुई
कवि दीपक बवेजा
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
Surinder blackpen
The Hard Problem of Law
The Hard Problem of Law
AJAY AMITABH SUMAN
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
💞 रंगोत्सव की शुभकामनाएं 💞
💞 रंगोत्सव की शुभकामनाएं 💞
Dr Manju Saini
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
Shyam Sundar Subramanian
जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार (कुंडलियां)
जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार (कुंडलियां)
Ravi Prakash
ऐसे दर्शन सदा मिले
ऐसे दर्शन सदा मिले
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
Loading...